कम्पनी समाचार (Industry News)

मल्टीप्लेक्स की डीलर्स मीटिंग संपन्न, नया उत्पाद हुआ लांच

Share

10 मार्च 2022, इंदौर । मल्टीप्लेक्स की डीलर्स मीटिंग संपन्न, नया उत्पाद हुआ लांच गत दिनों कर्नाटका एग्रो केमिकल्स प्रा लि (मल्टीप्लेक्स )की डीलर्स मीटिंग और नए उत्पाद आर्थोसील की लांचिंग पचमढ़ी में की गई। इस मौके पर कम्पनी के ज़ोनल मैनेजर (सेंट्र्ल )श्री नागेंद्र शुक्ला, एरिया मैनेजर श्री सुनील पांडेय , कृषक जगत के संचालक श्री सचिन बोन्द्रिया और बड़ी संख्या में डीलर्स शामिल हुए।

डीलर्स परिचय के बाद कम्पनी का परिचय देते हुए श्री पांडेय ने बताया कि मल्टीप्लेक्स 8 कंपनियों का ग्रुप है, जिसके उत्पादों का 17 देशों में निर्यात किया जाता है। देश में 25 शाखाएं हैं और 5000 डिस्ट्रीब्यूटर्स का बड़ा नेटवर्क है। बेंगलुरु 8 यूनिट स्थापित है। दृश्य -श्रव्य माध्यम से कम्पनी उत्पादों की जानकारी देते हुए श्री शुक्ला ने कहा कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है। उसी अनुरूप किसानों की मांग पर उत्पाद तैयार किए जाते हैं। अच्छी फसल के लिए मिट्टी का स्वस्थ होना और हवा,पानी का संतुलन बहुत ज़रूरी है।

इस मौके पर ज़मीन को जीवित करने वाले उत्पाद आर्गेनिक मैजिक ,बायो आर्गेनिक मैन्यूअर अन्नपूर्णा की विशेषताओं के साथ नए उत्पाद आर्थोसील को श्री बोन्द्रिया के हाथों पेश किया गया। इसके अलावा जीवरस ,बायो पोटाश शक्ति ,प्रो किसान ,समरस, चमक प्लस (तरल ), क्रांति आदि की विशेषताओं के साथ इनके यथा समय उपयोग को विस्तार से बताया गया। उपस्थित विक्रेताओं ने भी अपने अनुभव साझा किए। श्री नीरज ने टॉप ड्रेसिंग में सूक्ष्म पोषक तत्व हाइज़िंक के उपयोग की सलाह दी। वहीं श्री शुक्ला ने मूंग फसल में 5234 ,19 :19 :19 के साथ नीम तेल का प्रयोग करने की सलाह दी। इसके लिए मल्टी नीम 1500 पीपीएम को उपयुक्त बताया।

श्री बोन्द्रिया ने मल्टीप्लेक्स से 27 साल पुराने संबंधों का जिक्र कर कहा कि यह ऐसी भारतीय बहु राष्ट्रीय कम्पनी है, जो सूक्ष्म तत्वों के उत्पाद किसानों को कम दाम में उपलब्ध करा रही है। नई तकनीकों पर चलने वाली यह कम्पनी अब ड्रोन पर भी कार्य करने पर विचार कर रही है। जैविक खेती पर 2003 में कृषक जगत द्वारा भोपाल में पहली बार आयोजित जैविक हाट का स्मरण कर श्री बोन्द्रिया ने कहा कि तब जैविक खेती के बारे में ज़्यादा लोग जानते नहीं थे। किसानों को मिट्टी के स्वास्थ्य पर ध्यान देने की ज़रूरत है , क्योंकि मिट्टी में आर्गेनिक कार्बन होना बहुत ज़रूरी है। उर्वरकों की लगातार बढ़ती कीमतों को देखते हुए ऐसे उत्पादों का प्रयोग करें, जिससे लागत में कमी आए और हम आने वाली पीढ़ी को अच्छी ज़मीन दे सकें।

महत्वपूर्ण खबर: बेमौसम बारिश से गेहूं फसल को हुआ नुकसान

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *