राज्य कृषि समाचार (State News)

घोड़ारोज के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा ने ज्ञापन सौंपा

Share

27 जनवरी 2024, देपालपुर: (शैलेष ठाकुर, देपालपुर)घोड़ारोज के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा ने ज्ञापन सौंपा – संयुक्त किसान मोर्चा के तत्वावधान में गुरुवार को स्थानीय मंडी प्रांगण में बड़ी संख्या में एकत्रित हुए किसानों ने घोड़ारोज के खिलाफ मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन देपालपुर के तहसीलदार  श्री शेखर चौधरी को सौंपा और घोड़ारोज के आतंक से फसलों की हो रही बर्बादी से मुक्ति दिलाने की मांग की गई।

ज्ञापन में उल्लेखित किया गया कि घोड़ारोज ( रोजड़ा ) के आतंक से इंदौर ही नहीं पूरे मालवा के किसान परेशान  हैं । इंदौर जिले में  खासतौर से  देपालपुर, सांवेर ,हातोद और मल्हार गंज तहसील में यह समस्या अधिक है। यहाँ घोड़ारोज के झुंड के झुंड खेतों में घुस जाते हैं और गेहूं, चना, लहसुन, प्याज़, आलू, सरसों, सोयाबीन ,सब्जी आदि फसलों को बर्बाद कर देते हैं, जिससे  प्रत्येक किसान को लगभग 2 से 4 क्विंटल प्रति बीघा फसल का नुकसान उठाना पड़ रहा  है। इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, जिससे खेतों में नुकसान भी बढ़ रहा है। यही कारण है कि कई  किसानों ने मक्का, चना, लाल तुवर व मटर की फसल को बोना ही बंद कर दिया है, क्योंकि घोड़ारोज  फसल को खाने के साथ ही रौंदते भी है ,जिससे पूरी फसल बर्बाद हो जाती है। किसानों ने कई बार वन विभाग से भी इन जंगली जानवरों पर रोक लगाने की मांग की ,लेकिन विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं की।अतः सरकार से अनुरोध है कि घोड़ारोज से स्थायी मुक्ति दिलाने के लिए त्वरित कार्रवाई करे। स्मरण रहे कि इस मामले में ‘कृषक जगत ‘ के 22 जनवरी के अंक में ‘ घोड़ारोज से परेशान किसान, चाहे स्थायी समाधान ‘ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया गया था।

इस अवसर पर संयुक्त किसान मोर्चा से श्री बबलू जाधव ,श्री रामस्वरूप मंत्री ,श्री शैलेंद्र पटेल,श्री चंदन बड़वाया,  सहित कई गांवों के किसानों  जिनमें  श्री संजय परमार, श्री राजेश परमार तलावली,श्री बलदेव पटेल, सरपंच जलोदिया पंथ, श्री हरिओम सोनगरा ,श्री जितेंद्र बड़वाया,श्री कल्याण डोड,बिरगोदा, श्री सतीश पटेल,श्री गोकुल गेहलोद नेवरी, श्री मोहन बड़वाया, श्री सुभाष पटेल, बरोदा पंथ ,श्री देवेंद्र, श्री जितेंद्र, श्री विनोद सोलंकी चांदेर, श्री ओम तंवर, पितावली,श्री रोशन नागर ,दौलताबाद आदि उपस्थित थे।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम)

Share
Advertisements