सारंगी में समय से पहले सेब का फलोत्पादन

Share

11 जून 2021, इंदौरसारंगी में समय से पहले सेब का फलोत्पादन – सेब का उत्पादन प्रायः हिमाचल प्रदेश और कश्मीर में ही होता है , लेकिन कोई किसान ऐसे भी होते हैं , जो अपने नए प्रयोगों से किसी फसल के क्षेत्र विशेष की चुनौती को स्वीकार कर अपने क्षेत्र में उक्त फसल लेने का साहस दिखाते हैं। झाबुआ जिले की पेटलावद तहसील के ग्राम सारंगी के उन्नत किसान श्री बालाराम पाटीदार का नाम किसी परिचय का मोहताज़ नहीं है। कई पुरस्कार हासिल कर चुके श्री पाटीदार उद्यानिकी फसलों में नए प्रयोग करते रहते हैं।  इस बार सारंगी में सेब की फसल लेने का कमाल दिखाया है।

यह जानते हुए भी कि सेब की फसल हिमाचल और कश्मीर जैसी ठंडी जगहों पर ही सफल होती है , फिर भी श्री बालाराम पाटीदार ने  दो साल पहले हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर के पास स्थित घुमारवीं गांव से सेब की किस्म एचएमएन -99  के 150 पौधे प्रयोग के तौर पर लगाने के लिए श्री हरिमन शर्मा से खरीदकर लाए थे।

श्री पाटीदार ने कृषक जगत को बताया कि यह किस्म आमतौर पर तीन साल में फल देती है , लेकिन पर्याप्त देसी खाद और अच्छी निगरानी के चलते दो साल में ही बड़ी संख्या में सेब के फल लग गए हैं। इससे उनका उत्साह बढ़ा है। अब वे जल्द ही बड़ी संख्या में सेब के पौधे /कलमें लेने फिर हिमाचल जाएंगे।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.