आलू की अनुशंसित उन्नत जातियां

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
आलू की अनुशंसित उन्नत जातियां
किस्म  परिपक्वता (दिन) उत्पादन क्विं/हे. रिमार्क 
अगेती किस्म 
कुफरी जवाहर 60-90 250-300 अगेती झुलसा एवं फेमा रोग प्रतिरोधी किस्म है
कुफरी चंद्रमुखी 80-90 200-250 पिछेती अंगमारी के प्रति संवेदनशील
कुफरी आनंद 90-110 350-400 पिछेती अंगमारी के प्रतिरोधक एवं पाला के प्रति सहिष्णु
कुफरी पुखराज 90-110 300-350 अगेती के प्रति प्रतिरोधी
कुफरी ख्याती 75-80 230-280 पिछेती झुलसा के प्रति मध्यम प्रतिरोधी
कुफरी लीमा 90-95 300-325 विटामिन ए अधिक पाया जाता है
कुफरी अशोका 75-80 230-280 संपूर्ण सिंधू गंगा क्षेत्र के लिए उपलब्ध
कुफरी लवकर 100-120 250
कुफरी कुबेर 70-90 250 पीएलआरव्ही वायरस के प्रति अवरोधी व पीव्हीवाय प्रतिरक्षी है
कुफरी पुष्कर 70-80 300-350 पिछेती अंगमारी के लिए प्रतिराधी एवं उपयुक्त भण्डारण क्षमता
मध्यम अवधि की किस्म 
कुफरी गरिमा 95-100 300-350 पिछेती अंगमारी के प्रतिरोधी एवं कंद नहीं फटते
कुफरी बहार 90-100 450 बीज गुण का हास धीमी गति से होता है
चिपसोना-1 90-100 450 चिप्स बनाने के लिए उपयुक्त
चिपसोना-2 90-100 400 चिप्स बनाने के लिए उपयुक्त पिछेती अंगमारी के लिए प्रतिरोधी पाला सहिष्णु
चिपसोना-3 90-100 300-350 पिछेती अंगमारी के लिए प्रतिरोधी
कुफरी अरूण 90-110 300-350 पिछेती अंगमारी के लिए प्रतिरोधी लाल छिलका
कुफरी शैलजा 90-110 300-350 पिछेती अंगमारी के लिए प्रतिरोधी उपयुक्त भण्डारण
कुफरी सूर्या 90-100 300-350 तापमान के प्रति सहिष्णु
कुफरी ज्योति 85-100 300 अगेती व पिछेती अंगमारी व रोग के लिए मध्यम अवरोधी
कुफरी गंगा 90-100 325-350 अगेती अंगमारी के लिए प्रतिरोधी व रोग के लिए प्रतिरोधी व रोग के लिए मध्यम प्रतिरोधी
कुफरी स्वर्णा 95-100 480 अगेती पिछेती अंगमारी तथा सिस्ट निमेटोड के लिए प्रतिरोधी
कुफरी गिरीराज 100-105 250 पिछेती अंगमारी के लिए प्रतिरोधी
कुफरी कंचन 100-105 250-300 अगेती व पिछेती अंगमारी के प्रतिरोधी
पिछेती किस्म 
कुफरी बादशाह 100-110 375-400 अगेती एवं पिछेती अंगमारी के लिए प्रतिरोधी
कुफरी देवा 120-125 300-400 पाले के प्रति सहिष्णु
कुफरी सिन्दूरी 120-140 300-400 अच्छी भण्डारण क्षमता होती है
कुफरी लालिमा 90-110 335-375 अगेती झुलसा के लिए मध्यम प्रतिरोधी कंद की प्रक्रिया शीघ्र
कुफरी अरूण 100-105 300-321 अगेती एवं पिछेती रोग हेतु प्रतिरोधी कंद बनने की प्रक्रिया शीघ्र
कुफरी ललित 100-110 365-380 अगेती अंगमारी हेतु प्रतिरोधी
  • डॉ. डी.एन. नांदेकर
  • डॉ. विजय के. पराड़कर
  • श्रीमति संध्या बकोडे             

ज.ने.कृ.वि.वि., अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान आलू परियोजना
आंचलिक कृषि अनुसंधान केन्द्र, चन्दनगांव, छिंदवाड़़ा, golusuryawanshi450@gmail.com

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 4 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।