उर्वरकों का संतुलित और बेहतर प्रयोग जरूरी : श्री तोमर

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

उर्वरकों-का-संतुलित-और-बेहतर-प्रयोग-ज

उर्वरक जागरुकता सम्मेलन

(निमिष गंगराड़े)

नई दिल्ली। विभिन्न मापदंडों के आधार पर उर्वरक पोषकों का आदर्श उपयोग करके कृषि उत्पादकता को बनाए रखने के लिए किसानों के बीच ज्ञान का प्रसार करने और उन्हें उर्वरक का उपयोग और प्रबंधन के क्षेत्र में नई उन्नतियों से अवगत कराने के लिए, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री, श्री नरेंद्र सिंह तोमर और केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री, श्री डी. वी. सदानंद गौड़ा ने गत दिनों नई दिल्ली में संयुक्त रूप से वर्ष में दो बार होने वाले उर्वरक अनुप्रयोग जागरूकता कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम का आयोजन प्रत्येक वर्ष दोनों मंत्रालयों द्वारा संयुक्त रूप से राज्य सरकारों की मदद से खरीफ और रबी फसल के सत्र से पहले किया जाता है।

किसानों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए, केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर ने कहा कि किसानों के लिए और देश भर के 714 कृषि विज्ञान केंद्रों में इस कार्यक्रम को लाइव देख रहे लोगों के लिए एक ऐतिहासिक दिन है क्योंकि यह विषय बहुत ही प्रासंगिक है और यह सभी नागरिकों के जीवन को जुड़ा हुआ है। 

उन्होंने कहा कि भारत की आबादी का 50 प्रतिशत हिस्सा अपने भरण-पोषण के लिए कृषि पर निर्भर करता है, लेकिन सभी लोगों की खाद्य जरूरतें इसपर ही निर्भर हैं, इसलिए उत्पादकता, उत्पादन और स्थिरता को और अधिक बेहतर बनाने की जरूरत है। उन्होंने जोर दिया कि मिट्टी को उर्वरकों, सूक्ष्म पोषकों और रसायनों की संतुलित मात्रा में जरूरत होती है और इसका बहुत अधिक मात्रा में प्रयोग करने से यह भूमि को खराब कर सकती है और इसलिए इसका उपयोग बेहतर तरीके से किया जाना चाहिए।

केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री, श्री डी. वी. सदानंद गौड़ा ने कहा कि कृषि, ग्रामीण भारत की आजीविका का मुख्य आधार बनी हुई है और देश में खाद्यान्न उत्पादन की आवश्यकता को पूरा करने के लिए कृषि के लिए उर्वरक सबसे महत्वपूर्ण साधन हैं। श्री गौड़ा ने मिट्टी के समुचित संरक्षण पर जोर दिया क्योंकि यह भोजन, पोषण, पर्यावरण और आजीविका सुरक्षा के लक्ष्यों को सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने मिट्टी की स्थिरता में सुधार लाने के लिए मिट्टी का संरक्षण और प्रबंधन करने का आग्रह किया।

श्री गौड़ा ने आईसीएआर संस्थानों और कृषि विश्वविद्यालयों के साथ-साथ विभिन्न विभागों से कृषि उत्पादकता को बढ़ाने और बनाए रखने में योगदान देने का आग्रह किया।

श्री पुरुषोत्तम रूपाला, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री ने किसानों के बीच उर्वरकों के सही उपयोग करने की जागरूकता फैलाने के लिए एक मंच प्रदान करने वाली पहल की सराहना की। मंत्री ने पूरे देश में किसानों के फायदे के लिए विभिन्न प्रकार के कृषि-केंद्रित वृत्तचित्रों और फिल्मों को स्थानीय और क्षेत्रीय भाषाओं में अनुवाद करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि इस पहल से किसानों को ज्यादा प्रभावी तरीके से मदद मिलेगी।

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News