राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

12 रूपये तक सस्ता होगा खाने का तेल, सरकार ने कंपनियों से कटौती के लिए कहा

Share

05 जून 2023, नई दिल्ली: 12 रूपये तक सस्ता होगा खाने का तेल, सरकार ने कंपनियों से कटौती के लिए कहा – वैश्विक बाजार में खाद्य तेलों की कीमतों गिरावट को बरकरार रखने के लिए केंद्र सरकार ने शुक्रवार को खाद्य तेल संघों को अंतर्राष्ट्रीय बाजार के अनुरूप प्रमुख खाद्य तेलों के अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) को तत्काल प्रभाव से 8-12 रुपये प्रति लीटर कम करने के निर्देश दिए हैं।

खाद्य सचिव संजीव चोपड़ा की अध्यक्षता में शुक्रवार को नई दिल्ली में सॉल्वेंट एक्सट्रैक्शन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसईएआई) और इंडियन वेजिटेबल ऑयल प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (आईवीपीए) सहित प्रमुख उद्योग प्रतिनिधियों के साथ यह  दूसरी  बैठक आयोजित की गई।

इस बैठक के बाद खाद्य मंत्रालय ने कंपिनयों को सलाह देते हुए कहा कि जिन कंपनियों ने अपनी कीमतें कम नहीं की हैं और उनकी एमआरपी अन्य ब्रांडों की तुलना में अधिक हैं, वह भी अपनी कीमतें जल्द ही कम कर लें।  इसके अलावा खाद्य मंत्रालय ने विनिर्माताओं और रिफाइनरों द्वारा वितरकों को दिए जाने वाले मूल्यों को भी तत्काल प्रभाव से कम किए जाने कि जरूरत है और खाद्य तेलों के मूल्यों की गिरावट में किसी भी कारण से रूकावट न आए।

मंत्रालय ने प्रमुख खाद्य तेल संघों को यह सलाह भी दी गई है कि वे इस मुद्दे को तुरंत अपने सदस्यों के साथ उठाएं और यह सुनिश्चित करें कि प्रमुख खाद्य तेलों के अधिकतम खुदरा मूल्यों में तत्काल प्रभाव से 8 से 12 रूपये प्रति लीटर की कमी की जाए।

उद्योग प्रतिनिधियों ने बताया कि पिछले दो महीनों के दौरान विभिन्न खाद्य तेलों के वैश्विक मूल्यों में 150 से 200 अमेरिकी डॉलर प्रति टन की गिरावट आई है। यह भी जानकारी दी कि उन्होंने खाद्य तेलों के अधिकमत खुदरा मूल्यों में काफी कमी की है और वे जल्दी ही इन खुदरा मूल्यों को और भी कम कर देंगे।

मंत्रालय ने कहा कि खाद्य तेल के मूल्य में गिरावट का रूख जारी है और खाद्य तेल उद्योग द्वारा आगे और भी कटौती की तैयारी की जा रही है। वैश्विक कीमतों में लगातार गिरावट के बीच खाद्य तेलों की खुदरा कीमतों में और कमी पर चर्चा के लिए एक महीने के भीतर यह दूसरी बैठक की गई हैं। इस बैठक में मूल्य डेटा संग्रह और खाद्य तेलों की पैकेजिंग जैसे अन्य मुद्दों के बारे में भी विचार-विमर्श किया गया।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements