राज्य कृषि समाचार (State News)

केंद्रीय मंत्री श्री परषोत्तम रूपाला 15 सितंबर को इंदौर में मत्स्य सम्पदा योजना कार्यक्रम को संबोधित करेंगे

Share

14 सितम्बर 2023, इंदौर: केंद्रीय मंत्री श्री परषोत्तम रूपाला 15 सितंबर को इंदौर में मत्स्य सम्पदा योजना कार्यक्रम को संबोधित करेंगे – मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री श्री परषोत्तम रूपाला 15 सितंबर, 2023 को ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर, इंदौर, मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना (पीएमएमएसवाई) के कार्यान्वयन के तीन सफल वर्ष पूरे होने के अवसर पर एक कार्यक्रम को संबोधित करेंगे।  मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री मत्स्य पालन विभाग की छह महीने लंबी पहुंच पहल “मत्स्य सम्पदा जागरूकता अभियान” शुरू करेंगे, जिसके   अंतर्गत देश भर में सितंबर 2023 से फरवरी 2024 तक 108 मत्स्य किसान सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे।

श्री रूपाला उत्पादकता वृद्धि, फसल कटाई के बाद के बुनियादी ढांचे और अन्य मूल्य श्रृंखला वृद्धि हस्तक्षेपों से संबंधित पीएमएमएसवाई के तहत अनुमोदित विभिन्न परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे। पीएमएमएसवाई कार्यक्रम की तीसरी वर्षगांठ के जश्न के दौरान उजागर की जाने वाली प्रमुख गतिविधि मत्स्य पालन पर प्रदर्शनी का उद्घाटन होगा। इसमें नवाचारों का पता लगाने, विभिन्न पहलों, , कॉलेजों, विश्वविद्यालयों, मछली एफपीओ और मछली सहकारी समितियों द्वारा नवाचारों,  को शामिल किया जाएगा। कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र के बाद पीएमएमएसवाई के तहत सफलता की कहानियां साझा की जाएंगी, जिसमें विभिन्न मत्स्य पालन कार्यों से जुड़े लाभार्थियों और मछली किसानों को अपनी सफलता की कहानियां साझा करने का अवसर मिलेगा। कार्यक्रम हाइब्रिड मोड में आयोजित किया जा रहा है और उम्मीद है कि देश भर से 20,000 से अधिक प्रतिभागी इस कार्यक्रम में भाग लेंगे। डेयरी राज्य मंत्री डॉ. संजीव कुमार बालियान सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री डॉ. एल. मुरुगन, मध्‍य प्रदेश के मत्स्य पालन मंत्री श्री तुलसी सिलावट देश में मत्स्य पालन क्षेत्र की योजना और विकास पर अपनी बहुमूल्य जानकारी देंगे। केंद्र सरकार के सचिव डॉ. अभिलक्ष लिखी, संयुक्त सचिव श्री सागर मेहरा, संयुक्‍त सचिव सुश्री नीतू प्रसाद, मुख्य कार्यकारी/एनएफडीबी डॉ. एल. नरसिम्हा मूर्ति और आईसीएआर के उप महानिदेशक (मत्स्यपालन) डॉ. जेके जेना भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements