सबके कल्याण की सोच ही सहकारिता : मुख्यमंत्री श्री चौहान

Share

सहकारिता आंदोलन : नई ऊर्जा, नई शक्ति और नए क्षितिज’ विषय पर कार्यशाला

11 अगस्त 2021, भोपाल । सबके कल्याण की सोच ही सहकारिता : मुख्यमंत्री श्री चौहान – मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सहकारिता हमारे संस्कारों एवं संस्कृति में है। हम ‘सर्वे भवन्तु सुखिन:’ तथा ‘वसुधैव कुटंबकम्’ के मार्ग पर चलते हैं। सबके लाभ, सबके कल्याण और सबकी भलाई की सोच ही सहकारिता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश ने कोविड काल में सहकारिता के माध्यम से आपदा नियंत्रण का आदर्श प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में ‘म.प्र. में सहकारिता आंदोलन- नई ऊर्जा, नई शक्ति और नए क्षितिज’ विषयक कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। कार्यशाला में विभिन्न क्षेत्रों के सहकारिता विशेषज्ञ, सहकारिता मंत्री श्री अरविंद सिंह भदौरिया, सांसद श्री रमाकांत भार्गव, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस आदि उपस्थित थे।

फूड प्रोसेसिंग को बढ़ावा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में फसलों का बंपर उत्पादन है। यहां देश में सर्वाधिक गेहूं होता है। उद्यानिकी फसलों का भी बहुत उत्पादन है। प्रदेश में सहकारिता के माध्यम से फूड प्रोसेसिंग को अधिक से अधिक बढ़ावा दिया जाएगा।

सहकारिता आंदोलन को गति

सहकारिता मंत्री श्री अरविंद भदौरिया ने कहा कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में सहकारिता आंदोलन को गति मिली है। कार्यशाला में आए सहकारिता के विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों के अनुभवों का लाभ सहकारिता आंदोलन को मिलेगा।

सहकारिता को पूंजी की आवश्यकता

आरबीआई सेंट्रल बोर्ड के निदेशक श्री सतीश मराठे ने कहा कि आज सहकारिता क्षेत्र में पूंजी की आवश्यकता है। इसके लिए मौजूदा कानूनों में आवश्यक संशोधन करते हुए सहकारी संस्थाओं को अधिक अधिकार संपन्न बनाना आवश्यक है।

0 प्रतिशत ब्याज पर ऋण बड़ा कदम

सांसद एवं सहकारिता विशेषज्ञ श्री रमाकांत भार्गव ने कहा कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा किसानों को 0 प्रतिशत ब्याज पर कृषि ऋण दिया जाता है तथा ब्याज की राशि सरकार भरती है। यह कृषि एवं सहकारिता के क्षेत्र में बड़ा कदम है। पूरे प्रदेश में डेयरी एवं मत्स्य-पालन

गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

कार्यशाला को अमूल के क्षेत्रीय निदेशक श्री आर.एस. सोडी, सहकारिता विशेषज्ञ श्री डी.डी. त्रिपाठी, इंडियन कॉफी वर्कर्स को-ऑपरेटिव सोसायटी के श्री एंटोनी, वाशिंगटन डीसी के सहकारिता विशेषज्ञ प्रो. शशिका रवि एवं सहकार भारती के प्रदेश अध्यक्ष श्री विवेक चतुर्वेदी ने भी सम्बोधित किया। प्रारंभ में मध्यप्रदेश राज्य योजना एवं नीति आयोग के उपाध्यक्ष प्रो. सचिन चतुर्वेदी ने कार्यशाला के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.