फसल की खेती (Crop Cultivation)

पतंजलि मेटा

Share

18 अप्रैल 2024, भोपाल: पतंजलि मेटा – पतंजलि मेटा मेटारिज़ियम एनिसोप्लिए (स्पोर्स) नामक कवक से बनता है जो प्राकृतिक रूप से मिट्टी में पाया जाता है और यह एक उच्च गुणवत्ता वाला जैवकीटनाशक है।

• मेटाराइजियम के बीजाणु जब कीड़ों के संपर्क में आते हैं, तो वे रोगाणु नलिकाएं बनाते हैं।

• रोगाणु नलिकाएं एंजाइम छोड़ती हैं जो कीड़ों की त्वचा की बाहरी परत (छल्ली) में प्रवेश करती हैं।

• जब रोगाणु नलिका कीड़ों के शरीर में प्रवेश करती है, तो वे इन कीड़ों के पोषक तत्वों का उपयोग करते हैं और माइसेलिया बनाते हैं जो इन कीड़ों को संक्रमित करते हैं।

• इस तरह इन कीड़ों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कमजोर हो जाती है और वे 3-4 दिनों के भीतर मर जाते हैं।

• जब कुछ स्वस्थ कीड़े संक्रमित कीड़ों के संपर्क में आते हैं, तो स्वस्थ कीड़े भी संक्रमित हो जाते हैं और कुछ दिनों के बाद अंततः वे भी मर जाते हैं। यह कीड़ों की सभी अवस्थाओं में होता है जैसे कि उनके अंडों, लार्वा, युवा और वयस्क अवस्थाओं के मामले में, जो माइसेलिया बनाकर संक्रमित हो जाते हैं जो हरे रंग का होता है और सभी कीड़ों में फैल जाता है। यह दीमक, सफेद ग्रब, कैटरपिलर, सेमी-लूपर्स, लूपर्स, थ्रिप्स, कटवर्म, रस चूसने वाले कीड़े, माइलबग्स, एफिड्स आदि के प्रसार को नियंत्रित करता है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements