अतुल का रिटेलर सम्मेलन सम्पन्न

Share On :

atul-retailer-conference-concluded

इंदौर। देश की अग्रणी रसायनिक कम्पनी अतुल लि. का रिटेलर सम्मेलन गत दिनों उज्जैन में आयोजित किया गया जिसमें कम्पनी के जोनल मैनेजर श्री सुदेश जैन, मार्केटिंग मैनेजर श्री देवेंद्र सिंह, डेवलपमेंट मैनेजर श्री अखिलेश त्रिपाठी, रीजनल मैनेजर श्री मालवीय और बड़ी संख्या में रिटेलर उपस्थित थे।

सम्मेलन में श्री सुदेश जैन ने कहा कि अतुल लि. 65 प्लांटों में 3000 कर्मचारियों की मदद से 900  से अधिक उत्पाद बनाती है। हमारी कम्पनी नेल पॉलिश, पेंट, कलर, टायर आदि के माध्यम से लोगों से कहीं-कहीं जुड़ी हुई है। देश -विदेश की बड़ी कंपनियां हमसे जुड़ी हुई हैं जिन्हें हम टेक्निकल निर्यात करते हैं। कम्पनी को 42% लैटिन अमेरिका से, 4% यूरोप से,14% यूएसए से और 19% एशिया पेसिफिक से व्यवसाय मिलता है। अतुल लि. सीएसआर के तहत सामाजिक गतिविधियों में भी अग्रणी है। शिक्षा, रोजगार, प्रशिक्षण और पर्यावरण में भी सक्रिय है। स्वयं के प्रयासों से 1300 एकड़ का जंगल भी तैयार किया गया है। कम्पनी का एग्रो वेस्ट प्लांट भी है जहां जल शोधन किया जाता है। इससे प्लांट में बदबू नहीं आती है। गांवों में 5000 शौचालय निर्माण का लक्ष्य है।

श्री देवेंद्र सिंह ने कहा कि गुणवत्तापूर्ण उत्पाद बनाने वाली भारत में दूसरे स्थान वाली कम्पनी अतुल लि. ने 600 करोड़ का निवेश टू फोर डी में किया है। 2020 तक विश्व का सबसे बड़ा प्रोड्यूसर बनने का लक्ष्य है। आपने रबी की बुआई से पूर्व अच्छे अंकुरण और भूमिगत कीटों से रक्षा के लिए बीजोपचार में कम्पनी उत्पाद स्पोरा सुपर 5 मिली/लीटर उपयोग करने की सिफारिश की। इसके अलावा चौड़ी पत्ती वाले खरपतवारों के विनाश के लिए लोकप्रिय उत्पाद ज़ुरा इस्तेमाल करने की सलाह दी। श्री अखिलेश त्रिपाठी ने स्पोरा सुपर से उपचारित 500 ट्रे रिटेलर की दुकानों पर रखने की जानकारी दी। अंत में 10 लकी ड्रॉ भी निकाले गए।

इफको ने घटाए उर्वरकों के दाम

नई दिल्ली। इफको ने गत दिनों गैर-यूरिया उर्वरकों की कीमतों में कटौती करने की घोषणा की। कंपनी ने डीएपी समेत सभी उर्वरकों के दाम प्रति बैग 50 रुपए घटाये हैं।

इफको के एमडी श्री यू.एस. अवस्थी ने बताया कि ग्लोबल स्तर पर कच्चे माल की कीमत में कमी के चलते हमें राहत मिली है, जिसके चलते उर्वरकों के दाम में कटौती करने का फैसला किया है। नई कीमतों के मुताबिक अब इफको का 50 किलो का डीएपी बैग 1,250 की जगह 1,200 रुपए में उपलब्ध होगा। वहीं एनपीके-1 भी 1,250 से घटकर 1,200 रुपए में मिल सकेगा। जबकि एनपीके-2 की कीमत 1,260 की जगह 1,210 रुपए प्रति बैग होगी। एनपीके की घटी हुई कीमत 950 रुपए प्रति बैग होगी। ये नई कीमतें जीएसटी को मिलाकर निर्धारित की गई है और तत्काल प्रभावी हो चुकी है। हालांकि नीम कोटेड यूरिया की कीमत में कोई कमी नहीं की गई है। इसका भाव पहले की तरह 266.50 रुपए प्रति बैग (45 किलोग्राम) पर बरकरार है। नीम कोटेड यूरिया सरकार द्वारा नियंत्रित की जाती है।

 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles