राज्य कृषि समाचार (State News)

केन्द्रीय कृषि मंत्री ने की दलहन उत्पादन की समीक्षा, मूंग ख़रीदी लक्ष्य 40% तक बढ़ाने की मांग

Share

22 जून 2024, भोपाल: केन्द्रीय कृषि मंत्री ने की दलहन उत्पादन की समीक्षा, मूंग ख़रीदी लक्ष्य 40% तक बढ़ाने की मांग – केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज नई दिल्ली से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दलहन उत्पादन की समीक्षा की। उन्होंने सभी राज्यों को निर्धारित लक्ष्यों को शत-प्रतिशत प्राप्त करने के निर्देश दिए। इस समीक्षा बैठक में मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री श्री ऐदल सिंह कंसाना ने ग्रीष्मकालीन मूंग उपार्जन के 25 प्रतिशत लक्ष्य को 40 प्रतिशत तक बढ़ाने का अनुरोध किया।

श्री चौहान ने मध्यप्रदेश सहित उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, बिहार, आंध्रप्रदेश, झारखंड और तेलंगाना के कृषि मंत्रियों और अधिकारियों को वर्ष 2024-25 के लिए दलहन उत्पादन के निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए।

मध्यप्रदेश के लिए निर्धारित लक्ष्य

वर्ष 2024-25 के लिए मध्यप्रदेश में विभिन्न दलहनों का उत्पादन लक्ष्य इस प्रकार है:

  • तूअर: 4 लाख टन
  • मूंग: 15.50 लाख टन
  • उड़द: 9 लाख टन
  • मसूर: 6.95 लाख टन
  • चना: 37.50 लाख टन
  • अन्य दालें: 2.24 लाख टन
  • कुल: 76.19 लाख टन

बीज उत्पादन के लिए 24 हजार क्विंटल का लक्ष्य भी निर्धारित किया गया है।

मूंग उपार्जन लक्ष्य बढ़ाने का अनुरोध

कृषि मंत्री श्री कंसाना ने बैठक में वर्ष 2024-25 विपणन वर्ष में ग्रीष्मकालीन मूंग के कुल उत्पादन की 25 प्रतिशत उपार्जन लक्ष्य सीमा को बढ़ाकर 40 प्रतिशत तक करने का अनुरोध किया। उन्होंने ओला-पाला से बचाव के लिए जल्दी पकने वाली तूअर की हाइब्रिड किस्म तैयार करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश देने की मांग की।

मंत्री श्री कंसाना ने यह भी बताया कि मध्यप्रदेश के टीकमगढ़, शिवपुरी, नर्मदापुरम, नरसिंहपुर और हरदा जिलों में आदर्श दलहन गाँव विकसित किए जाएंगे। बैठक में अपर मुख्य सचिव श्री अशोक बर्णवाल भी उपस्थित रहे।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements