गुजरात के गन्ना किसानों को 25 करोड़ का ऑनलाइन भुगतान

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

09 सितंबर 2020, गांधीनगर। गुजरात के गन्ना किसानों को 25 करोड़ का ऑनलाइन भुगतान – गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने गांधीनगर से वडोदरा जिला सहकारी शुगरकेन ग्रोअर्स यूनियन, गंधारा के गन्ना जमा कराने वाले कुल 2908  किसान सभासदों, गन्ने की कटाई और छिलाई करने वाले श्रमिकों और ट्रक-ट्रैक्टर सप्लायरों की वर्ष 2018 -19  की 25  करोड़ रुपए की बकाया धनराशि का ऑनलाइन वितरण किया। इस अवसर पर गृह राज्य मंत्री श्री प्रदीपसिंह जाडेजा और सहकारिता मंत्री श्री ईश्वरसिंह पटेल गांधीनगर में उपस्थित थे।

महत्वपूर्ण खबर : किसानों को वनक्लिक से 18 सितंबर को 4600 करोड़ की मिलेगी बीमा राशि

मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वडोदरा जिले के करजण, सिनोर और डभोई तहसील की 31  जगहों पर उपस्थित मंत्री, सांसद, विधायक, सहकारी अग्रणियों और लाभार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि वडोदरा शुगरकेन यूनियन के किसान सभासदों के हित में उनकी मांग को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने एक ही सप्ताह में २५ करोड़ रुपए की बकाया रकम के ऑनलाइन भुगतान का निर्णय किया।    गुजरात सरकार ने किसानों के हित में निर्णय कर फसल बीमा के प्रीमियम भुगतान से मुक्ति देकर मुख्यमंत्री किसान सहायता योजना घोषित की है। इस योजना के तहत राज्य के सभी किसानों को बिना प्रीमियम भरे खरीफ के दौरान अतिवृष्टि, सूखा और बेमौसमी बारिश की स्थिति में फसल बीमा की रकम के भुगतान का प्रावधान किया गया है। राज्य सरकार ने इसके लिए चालू वर्ष में 2000  करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।

प्रति गाय प्रतिमाह 900  रुपए

गुजरात सरकार ने किसानों के लिए ‘सात पगलां खेड़ूत कल्याण ना’ यानी किसान कल्याण की दिशा में सात कदम योजना शुरू की है। इस योजना में प्राकृतिक खेती के लिए प्रति गाय प्रतिमाह 900  रुपए की सहायता दी जाती है। योजना के तहत खेत में ही फसल संग्रहण के लिए गोदाम बनाने को 30,000 रुपए की सब्सिडी सहायता तथा किसानों को उनके उत्पादों को बाजार में बिक्री के लिए ले जाने के लिए वाहन खरीदने के लिए भी सहायता दी जाती है।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × one =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।