चारा अभाव के समय पशुओं का आहार

भारत में 85 प्रतिशत से ज्यादा दुधारू पशु छोटे या कम आय वाले किसानों के पास ही हैं, जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है,  चारा अभाव के समय पशुओं का खान-पान जिस कारण से वे पशुओं को दाना व गुणवत्ता

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

बहुफसली गहाई यंत्र दोष, निवारण एवं सावधानियाँ

आजकल बड़े आकार के बहुफसली थ्रेशर बनाए जा रहे हैं, इसका इस्तेमाल गेहूं, धान, ज्वार, चना, मक्का, सोयाबीन, अरहर और सूर्यमुखी की गहाई के लिये किया जाता है। इस थ्रेशर से विभिन्न प्रकार के फसलों की गहाई करने पर साफ

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

दूध उत्पादन में संतुलित पशु आहार का महत्व

संतुलित पशु आहार – ऐेसा आहार जिसमें सभी आवश्यक पोषक तत्व एक उचित अनुपात उचित मात्रा में मिलाये जाते हैं। संतुलित पशु आहार बनाने के लिये उच्च गुणवत्ता के अनाज ग्वारमील, अनाज भूसी, शीरा, नमक, खनिज लवण तथा विटामिनों का

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

दुधारू पशु एवं आदर्श पशुशाला

हमारा देश एक कृषि प्रधान देश है तथा यहां पशुपालन साधारणत: कृषि का एक महत्वपूर्ण अंग है जो कि देश की अर्थव्यवस्था में मुख्य भूमिका अदा करता है। दुधारू पशुओं को मौसम की विशेषताओं जैसे गर्मी एवं सर्दी से बचाने

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

बकरियों के दूध प्रसंस्करण

प्रकृति में मौजूद अन्य सस्तन प्राणियों के माफिक बकरी भी एक सस्तन प्राणी है। मादा बकरी 1 पाव से लेकर 3 लीटर प्रतिदिन तक दूध देती है। लेकिन बकरी के दूध का जिक्र होते ही लोग नाक-भौहें सिकुड़ते हैं और

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

मछली पालन के लिए स्थान, जल और मिट्टी है खास

तालाबों का निर्माण ऐसे स्थान पर किया जाये, जहां की मिट्टी में अच्छी उर्वराशक्ति हो और जल का रिसाव न हो। तालाब ऐसे स्थान में निर्मित किये जायें जहां मीठे जल के स्रोत हों तथा उनके क्षतिग्रस्त होने की संभावना

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

फसल कटाई में मददगार जॉन डियर हार्वेस्टर

भोपाल। 175 से भी अधिक वर्षों से दुनिया भर के किसानों व कृषि बाजारों में अपनी धाक जमा रहे जॉन डियर ट्रैक्टर ने अपनी मशीनरी श्रेणी में एक और नायाब हीरा प्रस्तुत किया है जो जॉन डियर को अन्य कम्पनियों

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

पशुपालक भी कराएं पशुओं का बीमा

बालाघाट। कृषि कार्यों एवं दुग्ध उत्पादन में पशुओं का महत्वपूर्ण योगदान होता है। पशुओं की बीमारी या दुर्घटना में मृत्यु हो जाये तो पशु पालक का भारी नुकसान हो जाता है। पशु पालकों को ऐसी स्थिति में राहत प्रदान करने

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

पशुओं में नस्ल सुधार का महत्व

उन्नत पशु प्रजनन किस प्रकार संभव है- उन्नत नस्ल के चुने हुए उच्चकोटि के सांड से प्राप्त बछड़े-बछियों में अधिक उत्पादन क्षमता होती है। इसलिये निरंतर विकास हेतु हर समय उन्नत नस्ल के उच्चकोटि के सांड से पशुओं को प्रजनन

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें