राज्य कृषि समाचार (State News)

जिला एवं विकासखण्ड स्तरीय उड़न दस्ता दल गठित करें – कलेक्टर दमोह

Share

20 जून 2024, दमोह: जिला एवं विकासखण्ड स्तरीय उड़न दस्ता दल गठित करें – कलेक्टर दमोह – जिले में बीज एवं खाद की कालाबाजारी रोकने के लिए जिला एवं विकासखंड स्तरीय उड़न दस्ता दल का गठन 20 जून तक कर लिया जाये। कलेक्टर श्री कोचर खरीफ वर्ष 2024 में खाद बीज व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में ए.पी.सी. से संबंधित समस्त विभागों के जिला प्रमुख उपस्थित थे।

कलेक्टर श्री कोचर ने कहा उर्वरक वितरण के दौरान केंद्रों पर आवश्यक  प्रशासनिक  व्यवस्था सुनिश्चित की  जाए । डबल लाक केन्द्रों, सहकारी समितियों एवं निजी प्रतिष्ठानों में आवश्यकता पड़ने पर पर्याप्त पुलिस बल का सहयोग लिया जाये। कलेक्टर  ने  कहा एन.पी.के. उर्वरक का सोशल मीडिया के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये तथा सार्वजनिक स्थल जैसे कृषि उपज मंडी, तहसील कार्यालय, डबल लाक केन्द्र एवं कृषि कार्यालयों में 20 जून तक बैनर्स लगाकर किसानों को जागरूक करने के निर्देश दिये।  

 कलेक्टर ने  किसानों को डी.ए.पी. उर्वरक के स्थान पर एन.पी.के. उर्वरक के उपयोग हेतु जागरूकता शिविर 20 जून से 15 जुलाई  तक आयोजित करने के साथ कृषक संगोष्ठी करने निर्देश दिये गये। डबल लॉक केन्द्र से सिंगल लॉक केन्द्र में लक्ष्यानुसार यूरिया 4091 मैट्रिक टन, डीएपी 4055 मीट्रिक टन, कॉम्प्लेक्स 446 मीट्रिक टन, पोटाश 42 मीट्रिक टन तथा एनपीके पर्याप्त मात्रा में भण्डारण करा लिया  जाए।  उन्होंने  डी.ए.पी. उर्वरक के स्थान पर नैनो डी.ए.पी., यूरिया, एन.पी.के.,  कॉम्प्लेक्स  उर्वरकों का भण्डारण, वितरण कराने के निर्देश दिये ।

कलेक्टर श्री कोचर ने कहा डबल लाक केन्द्रों, सहकारी समितियों एवं निजी प्रतिष्ठानों में कृषकों को पहले आओ पहले पाओ के आधार पर कतार एवं टोकन वितरित कर उर्वरक वितरण कराया जाये। बैठक के दौरान जिले में उर्वरक का वितरण पी.ओ.एस. मशीन के माध्यम से कराने तथा खराब पी.ओ.एस. मशीनों को तत्काल सुधारने के निर्देश दिये गये। उन्होंने कहा पी.ओ.एस. मशीन में दर्शित उर्वरकों की मात्रा तथा वास्तविक उर्वरक भण्डारण मात्रा का मिलान एवं कालाबाजारी रोकने हेतु 20 जून से 20 अगस्त  तक नियमित रूप से प्रतिष्ठानों का भ्रमण कर सघन अभियान चलाने निर्देशित किया गया।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements