किसान ने पेश की ईमानदारी की मिसाल

Share

17 मार्च 2022, इंदौर ।  किसान ने पेश की ईमानदारी की मिसाल – वर्तमान समय में जबकि ठगी और धोखाधड़ी के मामले रोज़ाना सामने आ रहे हैं, ऐसे में देपालपुर तहसील के ग्राम शाहपुरा के  प्रगतिशील कृषक श्री लाखन सिंह सीताराम गेहलोत ने ईमानदारी की जो मिसाल पेश की है, वह प्रशंसनीय है। श्री गेहलोत द्वारा अपनी सोयाबीन की फसल की राशि का व्यापारी द्वारा दुबारा भुगतान कर दिए जाने पर उक्त राशि संबंधित व्यापारी को लौटाने का मामला सामने आया है। श्री गेहलोत की ईमानदारी पर मंडी की ओर से उन्हें प्रशंसा पत्र दिया गया।

घटना इस प्रकार है कि  गत  27 अक्टूबर  को श्री लाखन सिंह ने अपनी सोयाबीन की फसल लक्ष्मी नगर अनाज मंडी में बेची थी।  जिसे आनंद ट्रेडिंग कंपनी द्वारा खरीदा गया था, जिसकी कुल कीमत 26 ,573 हुई थी। अपने सभी पेपर देने के बाद भी जब श्री गेहलोत के खाते में रूपए नहीं आए तो वे संबंधित व्यापारी से जाकर मिले। व्यापारी ने बैंक से जानकारी निकाली तो पता चला कि तकनीकी त्रुटि के कारण भुगतान की राशि  किसी दूसरे खाते में चली गई। तब व्यापारी द्वारा  बैंक की आवश्यक कार्रवाई पूरी करने के बाद श्री गेहलोत के खाते में रुपए डाल दिए। श्री गेहलोत ने बैंक से वह रूपए 2 नवंबर  को निकाल भी लिए ,लेकिन 9 नवंबर को व्यापारी द्वारा पहले डाली गई राशि भी उक्त खाते से श्री गेहलोत के खाते में ट्रांसफर हो गई, जिसका पता ना व्यापारी को था ना किसान को । करीब 4 महीने बाद श्री गेहलोत जब बैंक गए तो उन्हें पता चला कि उनके खाते में 26 ,573, रुपए फिर से जमा हो गए हैं।

इसके बाद  श्री गेहलोत ने मंडी अधिकारी श्री परमार की सहायता से व्यापारी से संपर्क किया और उन्हें  बताया कि आपने मेरे खाते में दोबारा रुपए डाल दिए हैं। श्री गेहलोत स्वयं मंडी में व्यापारी को रूपए देने पहुँच गये। मंडी के व्यापारियों  एवं अधिकारियो  ने श्री गेहलोत की ईमानदारी की  भूरि -भूरि  प्रशंसा  की और  मंडी की ओर से प्रशंसा पत्र भी दिया गया। इस मौके पर भारतीय किसान एवं मजदूर  सेना के प्रदेश अध्यक्ष श्री बबलू जाधव, देपालपुर के प्रगतिशील कृषक श्री राजेन्द्र सिंह  दरबार, उन्नत कृषक श्री शैलेष पटेल एवं लाखनसिंह डाबी आदि किसान उपस्थित थे ।

महत्वपूर्ण खबर: अमानक उर्वरकों के लिए अब निर्माता कंपनियां भी बनेंगी पक्षकार

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.