फसल विविधिकरण से सरसों की बहार

Share

3 मार्च 2022, छिन्दवाड़ा ।  फसल विविधिकरण से सरसों की बहार –अलग-अलग फसलों की बुआई कर जोखिम तो दूर किया जा सकता है। साथ ही एक ही फसल पर निर्भर नहीं होना पड़ता है। यह कहना है तमिया ब्लॉक के ग्राम देलाखारी में किसान श्री अरविंद राय का इन्होने इस वर्ष कृषि विभाग के फसल विविधिकरण कार्यक्रम में सरसों का उत्पादन ले रहे हैं।

विभाग ने इनके खेत पर सरसों प्रक्षेत्र दिवस का आयोजन किया। इस अवसर पर जिसमें जनेकेविवि, जबलपुर के संचालक विस्तार सेवाएं डॉ. दिनकर शर्मा, संचालक प्रक्षेत्र डॉ. डी.के. पहलवान, डीन फेकल्टी डॉ. खरे, वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. टी.आर. शर्मा, डॉ. वर्मा, उपसंचालक कृषि श्री जितेन्द्र सिंह, डीन एवं सह संचालक आंचलिक कृषि अनुसंधान केन्द्र डॉ. विजय पराडक़र,केवीके प्रमुख डॉ. सुरेंद्र पन्नासे सहित सभी कृषि वैज्ञानिक एसडीओ कृषि प्रमोद उट्टी एवं कृषि विभाग एवं आत्मा का मैदानी अमला सहित किसान उपस्थित रहे।

महत्वपूर्ण खबर: हाईटेक खेती के लिए किसानों को ड्रोन पर मिलेगा 5 लाख रुपये अनुदान

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.