राज्य कृषि समाचार (State News)

भिंड में बताया फसलों में संतुलित मात्रा में पोषण प्रबंधन

Share

04 जुलाई 2024, भिंड: भिंड में बताया फसलों में संतुलित मात्रा में पोषण प्रबंधन – उप संचालक कृषि श्री राम सुजान शर्मा ने बताया है कि जिले में खरीफ में बाजरा के बाद धान मुख्य फसल के रूप में उगाई जाती है। किसी भी फसल के अधिकतम तथा गुणवत्ता पूर्ण उपज प्राप्त करने के लिए संतुलित मात्रा में पोषण प्रबंधन करना अति महत्वपूर्ण है।इस परिप्रेक्ष्य  में भिंड जिले में ज्यादातर किसान  फसलों में असंतुलित मात्रा में उर्वरकों का उपयोग करते हैं, जिससे मृदा का स्वास्थ्य खराब होता है।  अभी जिले की मुख्य फसल बाजरा है।  मानसून प्रारम्भ होते ही किसान  फसल हेतु खेतों में उर्वरक डाल रहे हैं।
यहां फसल के उच्चतम उत्पादन के लिए वैज्ञानिक अनुशंसा उर्वरकों हेतु की गई है। जिससे प्रति हेक्टेयर लागत भी कम हो और उत्पादन अधिकतम लिया जा सके। इसके अतिरिक्त किसान ,डीएपी की ज्यादा मांग करते हैं यहां किसानों को समझना होगा कि  किस फसल के लिए कौन-सी खाद उपयुक्त है और किस मात्रा में किस प्रकार दिया जाना है।

डीएपी में दो तत्व होते हैं 18 प्रतिशत नाइट्रोजन और 46 प्रतिशत फास्फोरस, इसकी फास्फोरस मात्र 39 प्रतिशत पानी में घुलनशील है शेष मिट्टी में बॉन्ड हो जाता है।डीएपी दलहन और फूल वाली फसलों के लिए उपयुक्त खाद है।  इसकी कीमत प्रति 50 किलो 1350 रुपए है, इसकी तुलना में दानेदार फसलों के लिए एनपीके जो 12ः32ः16 तथा 16ः16ः16 फार्मुलेशन   में आता है।  ये विशेषतः धान, बाजरा, ज्वार फसल के लिए सबसे उपयुक्त खाद माना जाता है। इसका फास्फोरस डीएपी की तुलना में पानी में अधिक घुलनशील है, लगभग इसका फास्फोरस 90 प्रतिशत घुलनशील है ,जो फसल को आसानी से उपलब्ध हो जाता है। साथ ही इसमें पोटाश भी 16 प्रतिशत होता है ,जो दाने में चमक के लिए होता है तथा इसकी कीमत भी 1250 प्रति 50 किलो बैग है, जो डीएपी से 150 रुपए कम है।अतः फसल के लिए आधार रूप में किसान  डीएपी के स्थान पर एनपीके का उपयोग कर फसल को ज्यादा और कम लागत में उगा सकते हैं।

उप संचालक कृषि श्री  शर्मा ने  किसानों  से अपील कर कहा है कि यूरिया के साथ एनपीके और एसएसपी का अधिक से अधिक उपयोग करें। सभी किसान फसल अनुसार अनुशंसित मात्रा में ही उर्वरक का उपयोग करें और लागत कम कर अधिक उपज प्राप्त करने हेतु प्रयास करें और धरा को स्वस्थ बनाएं। धान के लिए केवीके लहार के वैज्ञानिकों ने एनपीके 12ः32ः16, 188 किलो, यूरिया 168 किलो, एनपीके 16ः16ः16 मात्रा 230 किलो, यूरिया 170 किलो मात्रा की अनुशंसा की है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements