राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

केंद्रीय कृषि मंत्री की नई पहल: फसल विविधीकरण और प्राकृतिक खेती को मिलेगा बढ़ावा

Share

11 जुलाई 2024, नई दिल्ली: केंद्रीय कृषि मंत्री की नई पहल: फसल विविधीकरण और प्राकृतिक खेती को मिलेगा बढ़ावा – केंद्रीय कृषि मंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने देश में कृषि क्षेत्र की तीव्र प्रगति के लिए एक नई पहल शुरू की है। इस पहल के तहत, उन्होंने आज नई दिल्ली स्थित कृषि भवन में उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के कृषि मंत्रियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक की।

उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री श्री सूर्य प्रताप शाही और मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री श्री ऐंदल सिंह कंषाना ने अपने-अपने राज्यों में कृषि क्षेत्र के मुद्दों पर चर्चा की। श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि फसल विविधीकरण और प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए राज्यों में पर्याप्त अवसर हैं और केंद्र सरकार इसके लिए हरसंभव सहायता प्रदान करेगी।

बैठक में फसल विविधीकरण, सूचना प्रौद्योगिकी उपयोग, डिजिटल सर्वेक्षण, किसान रजिस्ट्री, ई-नाम, किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) को मजबूत बनाने, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और कृषि यंत्रीकरण जैसे कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा हुई। इस दौरान केंद्रीय कृषि विभाग के सचिव श्री संजीव चोपड़ा सहित मंत्रालय तथा दोनों राज्यों के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

श्री चौहान ने बताया कि उत्तर प्रदेश में फसल विविधीकरण और प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने की भरपूर संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि आयल पाम की खेती सहित दलहन-तिलहन उत्पादन को और बढ़ावा देने की आवश्यकता है। केंद्र सरकार उड़द, अरहर और मसूर की शत-प्रतिशत खरीद के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए राज्यों से संबंधित पोर्टल पर पंजीयन के लिए किसानों को जागरूक करने का आग्रह किया।

श्री चौहान ने बताया कि अपने मंत्रालयों से संबंधित मुद्दों पर विस्तार से चर्चा करने और उन्हें शीघ्रता से हल करने के लिए राज्यों के मंत्रियों के साथ बैठकों की श्रृंखला शुरू की गई है। पिछले दिनों उन्होंने असम और छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्रियों से भी बैठक कर विस्तृत चर्चा की थी।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements