राज्य कृषि समाचार (State News)

कुछ जिलों में भारी, तो कहीं सामान्य वर्षा की संभावना

Share

10 जुलाई 2024, इंदौर: कुछ जिलों में भारी, तो कहीं सामान्य वर्षा की संभावना – मौसम केंद्र , भोपाल से मिली जानकारी के अनुसार पिछले 24 घंटों  के दौरान मध्यप्रदेश के ग्वालियर, सागर संभागों के जिलों में कहीं- कही; भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, शहडोल संभागों के जिलों में कुछ स्थानों पर; इंदौर, नर्मदापुरम, चंबल संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर वर्षा दर्ज़ की गई एवं शेष सभी संभागों के जिलों में  मौसम मुख्यतः शुष्क रहा । राज्य के कई जिलों में गरज-चमक के साथ तेज़ हवाएं चलींl मप्र में 1 जून से 10 जुलाई की अवधि में दीर्घावधि औसत से 4 % कम वर्षा हुई है। पूर्वी मध्य प्रदेश में औसत से 16  % कम और पश्चिमी मध्यप्रदेश में औसत से 7 % अधिक वर्षा हुई है। पिछले 24 घंटों के दौरान पूर्वी मध्य प्रदेश में सिवनी जिले के कुराई में सर्वाधिक 70 मिमी और पश्चिमी मध्यप्रदेश में भिंड जिले के गोहद में सर्वाधिक 85 मिमी वर्षा दर्ज़ की गई।    

मौसम की स्थिति –  मानसून ट्रफ मध्य समुद्र तल पर अब जैसलमेर, कोटा,शिवपुरी, डाल्टनगंज,  पुरुलिया ,कोंटई से होकर पूर्व  की ओर  पूर्वोत्तर  बंगाल की खाड़ी तक विस्तृत है। वर्तमान में तीन चक्रवातीय परिसंचरण पहला पूर्वोत्तर उत्तर प्रदेश  से लेकर उत्तरी बिहार और उप हिमालयी पश्चिम बंगाल होते हुए असम के ऊपर,दूसरा कच्छ के ऊपर और तीसरा पूर्वोत्तर राजस्थान के ऊपर सक्रिय है। उत्तरी महाराष्ट्र – उत्तरी केरल तटों पर  मध्य समुद्र तल पर अपतटीय  ट्रफ विस्तृत है। वहीं अभी विरूपक हवाओं का क्षेत्र भी दक्षिण की ओर  झुकते हुए  अवस्थित है।

पूर्वानुमान – मौसम केंद्र के अनुसार नर्मदापुरम, बैतूल, रीवा, मऊगंज, सतना, छिंदवाड़ा, सिवनी , मंडला, बालाघाट, पन्ना , मैहर और पांढुर्ना जिलों में कुछ स्थानों पर वज्रपात / झंझावात के साथ भारी  वर्षा  (64.5 – 115.5  मि .मी.) संभावित है। जबकि भोपाल, विदिशा , रायसेन, सीहोर , राजगढ़, हरदा, बुरहानपुर, खंडवा, खरगौन, बड़वानी,  अलीराजपुर, झाबुआ,धार, इंदौर, रतलाम,  उज्जैन , देवास, शाजापुर, अगरमालवा, मंदसौर, नीमच, गुना, अशोकनगर, शिवपुरी,ग्वालियर, दतिया, भिंड, मुरैना, श्योपुरकलां, सिंगरौली, सीधी, अनुपपुर, शहडोल, उमरिया, डिंडोरी, कटनी,जबलपुर, नरसिंहपुर, दमोह, सागर, छतरपुर, टीकमगढ़ और निवाड़ी जिलों में वज्रपात /झंझावात के साथ वर्षा हो सकती है।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements