दुनिया की सबसे बड़ी फसल बीमा योजना में किसानों को मिले 90 हजार करोड़

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के 5 साल पूरे

18 जनवरी 2021, नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी फसल बीमा योजना में किसानों को मिले 90 हजार करोड़- दुनिया की सबसे बड़ी- प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाय) के 5 साल पूरे होने पर सभी राज्यों के साथ मिलकर कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कार्यक्रम में कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी इस कृषि बीमा योजना में किसानों को क्लेम के 90 हजार करोड़ रूपए मिल चुके हैं। उन्होंने कहा कि एमएसपी बढ़ाने,10 हजार नए एफपीओ बनाने तथा आत्मनिर्भर भारत अभियान में कृषि व सम्बद्ध क्षेत्रों के लिए डेढ़ लाख करोड़ रू.से ज्यादा के पैकेज से किसानों की दशा-दिशा बदलने वाली हैं।

श्री तोमर ने कहा कि पीएमएफबीवाय सफल रही है, जिसमें केंद्र के साथ राज्यों का योगदान है। रोजगार की दृष्टि से देंखे तो देश की आधी आबादी को कृषि क्षेत्र रोजगार प्रदान करता है, अर्थव्यवस्था की दृष्टि से देंखे तो कोविड के संकट में भी कृषि ने अपनी प्रासंगिकता सिद्ध की है। कृषि क्षेत्र प्रतिकूल परिस्थितियों का मुकाबला करने में सक्षम रहता है। श्री तोमर ने कहा कि किसानों को नुकसान से बचाने के लिए फसल बीमा योजना की कल्पना की गई व पीएमएफबीवाई के नाम से, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 13 जनवरी 2016 को मंजूरी देकर अप्रैल 2016 से इसे लागू कर दिया गया था।

श्री तोमर ने कहा कि खरीफ-2016 में योजना के शुभारंभ से खरीफ-2019 तक किसानों ने प्रीमियम के रूप में 16,000 करोड़ रू. का भुगतान किया और फसलों के नुकसान के दावों के रूप में किसानों को 86,000 करोड़ रू. मिले हैं अर्थात् किसानों को प्रीमियम के मुकाबले 5 गुना से ज्यादा राशि दावों के रूप में मिली है। कुल आंकड़ा देंखे तो, योजना की शुरूआत से दिसंबर-2020 तक किसानों ने लगभग 19 हजार करोड़ रू. प्रीमियम भरी, जिसके बदले उन्हें लगभग 90 हजार करोड़ रू. का भुगतान दावों के रूप में किया जा चुका है। योजना में पांच साल में 29 करोड़ किसान आवेदक बीमित हुए। हर वर्ष औसतन 5.5 करोड़ से अधिक किसान योजना से जुड़ रहे है।

कृषि राज्य मंत्री श्री परषोतम रूपाला ने कहा कि किसानों को जोखिम मुक्त करना सरकार का उद्देश्य है। पीएमएफपीवाय को स्वैच्छिक कर दिया गया है। इसकी मानीटरिंग के लिए बेहतर व्यवस्था और पर्याप्त प्रचार-प्रसार होना चाहिए। कृषि सचिव श्री संजय अग्रवाल ने भी संबोधित किया। पीएमएफबीवाय के सीईओ डा. आशीष कुमार भूटानी ने प्रारंभिक उद्बोधन दिया। कार्यक्रम में राज्यों के प्रमुख सचिव (कृषि) एवं कृषि उत्पादन आयुक्त, बीमा कंपनियों के एमडी व अन्य अधिकारी, एजेंसियों के प्रतिनिधिगण तथा केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के अधिकारी शामिल हुए।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।