राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

पिछले साल ” सामान्य से कम” मानसून के कारण कृषि क्षेत्र की रफ़्तार धीमी रही

Share

03 जून 2024, नई दिल्ली: पिछले साल ” सामान्य से कम” मानसून के कारण कृषि क्षेत्र की रफ़्तार धीमी रही – पिछले वित्त वर्ष में खराब मानसून के चलते कृषि और संबंधित गतिविधियों की सकल मूल्य वर्धित (GVA) वृद्धि दर 1.4 प्रतिशत रही, जो 2018-19 के बाद सबसे धीमी है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, FY24 की अंतिम तिमाही में इस क्षेत्र की वृद्धि दर 1.1 प्रतिशत रही, जो पिछले अक्टूबर से दिसंबर तिमाही के समान थी। FY23 में कृषि क्षेत्र की वृद्धि दर 4.7 प्रतिशत थी।

2023 में “सामान्य से कम” मानसून बारिश के कारण कई प्रमुख  फसलों का उत्पादन कम हुआ, जिससे कृषि क्षेत्र की वृद्धि प्रभावित हुई। FY23 में कृषि क्षेत्र की वृद्धि दर स्थिर कीमतों पर 4.7 प्रतिशत दर्ज की गई थी, जबकि Q3FY23 में यह 4.8 प्रतिशत और Q4FY23 में 7 प्रतिशत थी।

पशुपालन, मुर्गीपालन में तेजी

विशेषज्ञों का मानना है कि कमजोर मानसून के बावजूद, कृषि क्षेत्र की सकारात्मक वृद्धि दर इसकी सहनशीलता और असमान बारिश से दूर रहने की क्षमता को दर्शाती है। यह वृद्धि मुख्य रूप से संबंधित क्षेत्रों, जैसे पशुपालन, मुर्गीपालन, मछली पालन, मांस, अंडे, बागवानी और वानिकी, से आई हो सकती है, जो फसल क्षेत्र की तुलना में तेजी से बढ़ रहे हैं।

अगस्त में लंबा गतिरोध

2023 में जून से सितंबर तक की बारिश लंबी अवधि के औसत (LPA) का 94 प्रतिशत थी, जिसे “सामान्य से कम” श्रेणी में रखा गया। यह 2018 के बाद पहला सामान्य से कम मानसून था। 2023 में प्रबल एल नीनो और अन्य प्रतिकूल कारकों के कारण बारिश कम हुई। मानसून ने जून में देरी से प्रवेश किया और अगस्त के महत्वपूर्ण महीने में लंबा ब्रेक लिया, जिससे उस महीने की LPA का केवल 64 प्रतिशत ही प्रदर्शन हुआ। इससे खरीफ की फसल पर बुरा असर पड़ा और उत्पादन में गिरावट आई। पोस्ट-मानसून बारिश भी अधिकांश हिस्सों में अत्यधिक कम रही, जिससे कुछ रबी फसलों की पैदावार पर असर पड़ा। जलाशयों के जल स्तर में गिरावट के कारण सिंचाई गतिविधियों पर भी असर पड़ा।

इन सभी कारणों से 2023-24 की फसल वर्ष (जुलाई से जून) में खाद्यान्न उत्पादन पिछले वर्ष की तुलना में 6.2 प्रतिशत कम रहा। तिलहन उत्पादन 11.5 प्रतिशत और दलहन उत्पादन 10 प्रतिशत कम रहा। चावल का उत्पादन 123.81 मिलियन टन पर आ गया, जो पिछले वर्ष से 8.8 प्रतिशत कम है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements