मध्यप्रदेश में कृषकों के लिए प्रमुख योजना – सामुदायिक पोषण (जैविक) उद्यान

Share

22 जुलाई 2022, भोपाल । मध्यप्रदेश में कृषकों के लिए प्रमुख योजना – सामुदायिक पोषण (जैविक) उद्यान –

विभाग: पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग
योजना का नाम: सामुदायिक पोषण (जैविक) उद्यान
अधिकार क्षेत्र: केंद्र प्रवर्तित योजना
योजना कब से प्रारंभ की गयी: 1 अप्रैल 2020
योजना का उद्देश्य: ग्रामीण बच्चों को वर्ष भर कुपोषण से बचाने के लिये विशेष आवश्यकता के अनुरूप हितग्राहीमूलक व सामुदायिक पोषण उद्यान विकसित किये जाने हैं। राज्य आजीविका मिशन द्वारा लिये जाने वाले पोषण उद्यान विकास कार्य में मनरेगा अंतर्गत निम्न कार्य एकल रूप से समूह में लिये जा सकते हैं- लक्षित वर्ग के पात्र हितग्राहियों की निजी भूमि पर। सामुदायिक शासकीय भूमि पर।
लाभार्थी के लिए आवश्यक शर्तें/लाभार्थी चयन प्रक्रिया शर्ते: शासन द्वारा संचालित स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्र, ग्राम पंचायत की भूमि को प्राथमिकता।
लाभार्थी वर्ग: गरीबी रेखा से नीचे के लिए
लाभार्थी का प्रकार: किसान, महिला,पुरुष,बेरोजगार,परित्यक्ता,विधवा,विधुर,अनाथ बालक बालिका,ग्रामीण,वृद्ध,खिलाड़ी,दिव्यांग,श्रमिक,नि:शक्त, अंत्योदय परिवार,बेसहारा,अन्य
लाभ की श्रेणी: श्रमिक कार्य,हितग्राही मूलक कार्य
आवेदन कहाँ करें: ग्राम पंचायत
पदभिहित अधिकारी: ग्राम रोजगार सहायक
समय सीमा: मजदूरी भुगतान हेतु 15 दिवस की समय सीमा
आवेदन प्रक्रिया: ग्राम पंचायत में काम की मांग करना
आवेदन शुल्क: नि:शुल्क
अपील: जनपद पंचायत सी.ई.ओ.
अनुदान/ऋण/वित्तीय सहायता /पेंशन/लाभ की राशि: मजदूरी भुगतान/हितग्राहीमूलक कार्यों में शत प्रतिशत अनुदान
हितग्राहियों को राशि के भुगतान की प्रक्रिया: काम के आधार पर मजदूर/हितग्राही के खाते में इलेक्ट्रानिक माध्यम से भुगतान, 100 दिवस का रोजगार ।

महत्वपूर्ण खबर: बायो फर्टिलाईजर और कीटनाशकों के उपयोग को बढ़ावा दे रही है केन्द्र सरकार

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.