कमल के फूलों से गुलज़ार गुलावट बना पर्यटन केंद्र

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

(जे. पी. नागर, देपालपुर ।)

इंदौर से 23 किमी दूर देपालपुर मार्ग पर गंभीर नदी के किनारे और यशवंत सागर बाँध के पास स्थित गुलावट गांव में खिले कमल के सैकड़ों फूल और ऊँचे -ऊँचे बांस के पेड़ों की बनी गुफाएं पर्यटकों को बरबस आकर्षित करती हैं. हाल ही में देपालपुर विधायक के प्रयासों से राज्य सरकार ने गुलावट को पर्यटक स्थल घोषित किया है. यहां शिकारे और नावें चलने से स्थानीय लोगों को रोजग़ार भी मिलने लगा है।

एक समय ऐसा भी था जब गुलावट के बाशिंदों को वर्षाकाल में पुल के अभाव में 8 किमी जाने के लिए 22 किमी का लम्बा सफर तय करना पड़ता था. इनकी इस तकलीफ को पूर्व सांसद श्रीमती सुमित्रा महाजन और पूर्व विधायक श्री मनोज पटेल ने महसूस किया और पुल बनवाने में प्रमुख भूमिका निभाई. गुलावट को पर्यटक स्थल बनाने में देपालपुर विधायक श्री विशाल पटेल का विशेष योगदान रहा . उन्होंने मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ से गुलावट को पर्यटक स्थल घोषित करने का आग्रह किया जिसे उन्होंने तुरंत स्वीकार कर लिया. गत दिनों विधायक श्री पटेल और कलेक्टर श्री लोकेश जाटव की उपस्थिति में इसे पर्यटक स्थल घोषित किया गया. पुल बनाते समय खुदाई के दौरान हनुमानजी की प्रतिमा प्रकट हुई थी, जिसे ठेकेदार और ग्रामीणजनों ने मंदिर बनाकर उसमे विधि विधान से स्थापित कर दिया. पर्यटक सबसे पहले इसी के दर्शन करते हैं. यहां का शांत और सुरम्य वातावरण शहरियों को रास आने लगा है. इसीलिए हर रविवार यहां पर्यटकों की संख्या बढ़ती जा रही है. पर्यटकों की सुविधा के लिए स्थानीय लोगों ने झूले, ओपन जीप शूटिंग, प्री वेडिंग शूटिंग ,चेंजिंग रूम, वेडिंग रूम, नावें और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई है, जिससे उन्हें भी रोजग़ार मिल रहा है. लगता है कि कमल के फूलों से गुलज़ार गुलावट गांव जल्द ही अन्य सैलानियों का भी पसंदीदा पर्यटन स्थल बन जाएगा।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 16 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।