फसल की खेती (Crop Cultivation)

कपास (0-60 दिन) में रस चूसक कीट व टिंडे की सुंडियों पर नियंत्रण कैसे करें

Share

15 जुलाई 2023, भोपाल: कपास (0-60 दिन) में रस चूसक कीट व टिंडे की सुंडियों पर नियंत्रण कैसे करें – केंद्रीय कपास अनुसंधान संस्थान- सिरसा, हरियाणा ने नरमा कपास फसल  की उच्च पैदावार प्राप्त करने के लिए किसानों को सलाह जारी की हैं। इस सलाह में संस्थान द्वारा नरमा कपास किसानों को 0-60 दिन के रस चूसक कीट व सुंडियों के प्रकोप से फसल को बचाने व इन कीटो पर नियंत्रण करने के बारे में बताया गया हैं।

कपास में सफेद मक्खी पर नियंत्रण-

सफ़ेद मक्खी की निगरानी और प्रबंधन के लिए प्रति एकड़ 40-50 पीले चिपचिपे ट्रैप (कम कीमत वाले) जुलाई-अगस्त माह में तथा सुंडियों की निगरानी के लिए फसल 40-50 दिनों के होने पर प्रति एकड़ 2 फेरोमोन ट्रैप लगाने चाहिए और लगातार तीन रात के लिए गुलाबी सुंडी के 8 पतंगे प्रति ट्रैप आने पर या 10 रोजेटी फूल या अन्य सुंडियो के लिए 10 प्रतिशत हरे टिंडों में नुकसान के लक्षण मिलते है, तो सिफारिश किए गए कीटनाशकों का प्रयोग कर प्रभावी नियंत्रण करें।

नीम के तेल से रस चूसक कीटो व सुंडियों पर करें नियंत्रण

0-60 दिन की अवस्था में आर्थिक कगार तक पहुंचने वाले रस चूसक कीट व सुंडियों के नियंत्रण के लिए नीम का तेल या नीम आधारित कीटनाशक (300-1500 पी.पी.एम.) 5 मि.ली.  लीटर पानी व 1 ग्राम कपड़े धोने का पाउडर का घोल बनाकर 1-2 छिड़काव करें।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements