फसल की खेती (Crop Cultivation)

मध्य प्रदेश के लिए फसलों की 23 किस्में अनुशंसित

Share

12 अक्टूबर 2022, भोपालमध्य प्रदेश के लिए फसलों की 23 किस्में अनुशंसित  – राज्य शासन ने राज्य बीज उपसमिति की सहमति पर म.प्र. के लिए विभिन्न किस्मों की अनुशंसा की है। समिति की बैठक में कुल 27 प्रस्तावों द्वारा फसलों की 29 किस्मों पर विचार किया गया, इसमें से कुल 23 किस्मों को प्रदेश के लिए अनुशंसित किया गया। इन प्रस्तावों में जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्व विद्यालय जबलपुर, राजमाता सिंधिया कृषि विश्व विद्यालय ग्वालियर, आईआईपीआर क्षेत्रीय अनुसंधान फंदा (भोपाल) एवं भारतीय सोयाबीन अनुसंधान के इन्दौर शामिल हैं। म.प्र. के लिए फसलों की अनुशंसित किस्मों की सूची इस प्रकार है-

फसल प्रजाति विशेषताएं
आई.आई.पी.आर.-2 किस्में  
उड़द आईपीयू-17-2 शीघ्र पकने वाली, परिपक्वता अवधि 73 दिन, अधिकतम उत्पादकता 13.69 क्विंटल प्रति हे., येलो मोजेक प्रतिरोधी एवं समर मौसम के लिए उपयुक्त।
उड़द आईपीयू 19-10 परिपक्वता अवधि 73 दिन, अधिकतम उत्पादकता 21.30 क्विंटल प्रति हे., येलो मोजेक प्रतिरोधी, स्प्रिंग एवं समर मौसम के लिए उपयुक्त।
ज.ने.कृ.वि.वि. जबलपुर- 13 किस्में  
धान पूसा जेआरएच-56 परिपक्वता अवधि 120 दिन, कीट रोगों के प्रति 
धान (आईईटी-27333) प्रतिरोधक, उत्पादकता 61.50 क्विं./ हेक्टेयर, उत्पादन लागत सामान्य धान से करीब 30 प्रतिशत कम आती है।
धान जेआर-21 परिपक्वता अवधि 128 से 130 दिन, मध्यम अवधि में 
धान (आईईटी-28388) पकने वाली, अधिकतम उत्पादकता 60.36 क्विं./हेक्टेयर, सीधी बुवाई एवं रोपण पद्धति दोनों के लिए उपयुक्त।
मक्का जवाहर मक्का परिपक्वता अवधि 77 से 91 दिन, रेनफेड कंडीशन हेतु 
मक्का जेएम-1014 उपयुक्त, उत्पादकता 55.62 किलो प्रति हेक्टेयर, दानों का रंग लाल है।
मक्का (एचएमएम-1014)  
अलसी जवाहर अलसी परिपक्वता अवधि 116 दिन, कीट एवं रोगों के प्रति प्रतिरोधी, उत्पादकता 8.74 क्विं. प्रति हेक्टेयर, तेल की मात्रा 39.37 प्रतिशत है।
अलसी सागर-122,  (जेएलएस-122)  
उड़द टीजेयू-130 परिपक्वता अवधि 65 से 70 दिन, शीघ्र पकने वाली किस्म, उत्पादकता 14.19 क्विं. प्रति हेक्टेयर, स्प्रिंग एवं समर सीजन हेतु उपयुक्त।
उड़द टीजेयू-339 परिपक्वता अवधि 65 से 70 दिन, शीघ्र पकने वाली किस्म, उत्पादकता अधिकतम 17.33 क्विं. प्रति हेक्टेयर, मूंग बीन यलो मोजेक वायरस के प्रति प्रतिरोधी।
चना जेजी-18 (जेजी- 2019-155-118) परिपक्वता अवधि 110 से 115 दिन, समय एवं देरी से बोनी हेतु उपयुक्त, विभिन्न रोगों के प्रति प्रतिरोधी, अधिक तापमान हेतु सहनशील, उत्पादकता 23.60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर।
चना जेजी-2018-52 परिपक्वता अवधि 110 से 115 दिन, अधिकतम उत्पादकता 22-25 क्विंटल प्रति हेक्टेयर, दाल की मात्रा 80 प्रतिशत, वर्षा आधारित क्षेत्रों एवं समय पर बोनी हेतु उपयुक्त।
चना (जेजी-52)  
आम सुन्दरजा सलेक्शन-02 वृक्षों की ऊंचाई 7 से 8 मीटर, फूलों की परिपक्वता अवधि 135 से 140 दिन, भण्डारण गुणवत्ता सामान्य तापमान पर 10 से 12 दिन एवं फ्रीजिंग में 30 दिन।
कोदो जवाहर कोदो-9-1 परिपक्वता अवधि 103 से 104 दिन, उत्पादकता 22 से 25 क्विं./हे., लॉजिंग एवं झडऩे के प्रति प्रतिरोधी, समय से बोनी हेतु रेनफेड एवं कम उपजाऊ मृदा हेतु भी उपयुक्त।
कुटकी जवाहर कुटकी-95 परिपक्वता अवधि 114 से 116 दिन, उत्पादकता 17 से 18 क्विं./हेक्टेयर, जैविक पद्धति में निष्पादन अति उत्तम, समय पर बोनी हेतु उपयुक्त।
ओट्स वी-8  दाने वाली ओट्स की प्रथम किस्म, एबायोटिक स्ट्रेस के 
ओट्स (जेडब्ल्यूजीओ-01) प्रति सहनशील, परिपक्वता अवधि 106 से 111 दिन, उत्पादकता 32.18 क्विं./हेक्टेयर, सभी प्रकार की मृदा में बोये जाने हेतु उपयुक्त।
मक्का पूसा जवाहर हायब्रिड परिपक्वता अवधि 92 से 94 दिन, शीघ्र पकने वाली 
मक्का मक्का-2 किस्म, उत्पादकता 96.06 क्विं./हे., दानों का रंग नारंगी, सूखा क्षेत्र के लिए उपयुक्त, प्रजाति हायब्रिड है।
सोयाबीन अनुसंधान केन्द्र इन्दौर- 3 किस्में  
सोयाबीन एनआरसी-157 परिपक्वता अवधि 94 से 95 दिन, जल्दी पकने वाली किस्म, अधिकतम उत्पादकता 24 क्विं. प्रति हेक्टेयर, रोगों के प्रति प्रतिरोधी, उच्च अंकुरण क्षमता, देर से बोने हेतु उपयुक्त 15 जुलाई तक। तेल का प्रतिशत 18 एवं प्रोटीन 35.67 प्रतिशत है।
सोयाबीन एनआरसी-136 परिपक्वता अवधि लगभग 105 दिन, मध्यम देरी से पकने वाली किस्म, उत्पादकता 27.15 क्विं./हेक्टेयर, सूखा क्षेत्र के लिए उपयुक्त, उच्च अंकुरण क्षमता।
सोयाबीन एनआरसी-131 उच्च उपज क्षमता एवं मशीन से कटाई हेतु उपयुक्त।
राजमाता सिंधिया कृषि वि.वि. ग्वालियर- 5 किस्में
कुसुम आरव्हीएस-18-03 परिपक्वता अवधि 127 से 132 दिन, मध्यम अवधि में पकने वाली किस्म, उत्पादकता 17.26 क्विं./हेक्टेयर, रोगों के प्रति प्रतिरोधी, सिंचित एवं वर्षा आधारित क्षेत्रों के लिए उपयुक्त।
ज्वार राज विजय ज्वार 2714 परिपक्वता अवधि 121 से 130 दिन, देरी से पकने वाली किस्म, प्रजाति इथेनाल का अच्छा ोत। वर्षा आधारित क्षेत्रों के लिए उपयुक्त, ग्रीन (फ्रेश) का उत्पादन 50 टन प्रति हेक्टेयर।
ज्वार आरवीजे-2357 उच्च उपज क्षमता चारा एवं दाना हेतु उपयोगी।
कपास आरवीजेके- परिपक्वता अवधि 144 से 160 दिन, मध्यम अवधि में 
कपास एसजीएफ-1 पकने वाली किस्म, उत्पादकता 8.87 क्विं./हेक्टेयर, जैविक कपास के रूप में प्रदेश की नान जीएम देशी प्रजाति, रेशे की लंबाई 28 से 30 एमएम। कपास उगाये जाने वाले सभी क्षेत्रों हेतु उपयुक्त।
कपास आरवीजेके- परिपक्वता अवधि 145 से 155 दिन, मध्यम अवधि की 
कपास एसजीएफ-2 किस्म, उत्पादकता 8.43 क्विं./हेक्टेयर, प्रजाति जैविक कपास के रूप में, रेशे की लंबाई 28 से 30 एमएम।

महत्वपूर्ण खबर: प्राकृतिक खेती – डिजिटल कृषिअब मिशन मोड में होगी

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *