फसल की खेती (Crop Cultivation)

नवीनतम फसल की खेती (Crop Cultivation) की जानकारी और कृषि पद्धतियों में नवाचार, बुआई का समय, बीज उपचार, खरपतवार नियन्तारन, रोग नियन्तारन, कीटो और संक्रमण से सुरक्षा, बीमरियो का नियन्तारन। गेहू, चना, मूंग, सोयाबीन, धान, मक्का, आलू, कपास, जीरा, अनार, केला, प्याज़, टमाटर की फसल की खेती (Crop Cultivation) की जानकारी और नई किस्मे। गेहू, चना, मूंग, सोयाबीन, धान, मक्का, आलू, कपास, जीरा, अनार, केला, प्याज़, टमाटर की फसल में कीट नियंतरण एवं रोग नियंतरण। सोयाबीन में बीज उपचार कैसे करे, गेहूँ मैं बीज उपचार कैसे करे, धान मैं बीज उपचार कैसे करे, प्याज मैं बीज उपचार कैसे करे, बीज उपचार का सही तरीका। मशरुम की खेती, जिमीकंद की खेती, प्याज़ की उपज कैसे बढ़ाए, औषदि फसलों की खेती, जुकिनी की खेती, ड्रैगन फ्रूट की खेती, बैंगन की खेती, भिंडी की खेती, टमाटर की खेती, गर्मी में मूंग की खेती, आम की खेती, नीबू की खेती, अमरुद की खेती, पूसा अरहर 16 अरहर क़िस्म, स्ट्रॉबेरी की खेती, पपीते की खेती, मटर की खेती, शक्ति वर्धक हाइब्रिड सीड्स, लहसुन की खेती। मूंग के प्रमुख कीट एवं रोकथाम, सरसों की स्टार 10-15 किस्म स्टार एग्रीसीड्स, अफीम की खेती, अफीम का पत्ता कैसे मिलता है?

फसल की खेती (Crop Cultivation)

चने की बुवाई रेज्ड बेड पद्धति से करें

23 अक्टूबर 2020, शाजापुर।चने की बुवाई रेज्ड बेड पद्धति से करें – शाजापुर कृषि विज्ञान के वैज्ञानिक डॉ एस.एस. धाकड ने बताया कि चने की बुवाई का उचित समय चल रहा है। किसान भाई बुवाई करते समय अनुषंसित प्रजातियां आर.व्ही.के.जी-101.

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

गेहूं की गौ आधारित जैविक खेती

गेहूं की गौ आधारित जैविक खेती – जैविक खेती वह सदाबहार कृषि पद्धति है, जो पर्यावरण की शुद्धता, जल व वायु की शुद्धता, भूमि का प्राकृतिक स्वरूप बनाने वाली, जल धारण क्षमता बढ़ाने वाली, धैर्यशील कृत संकल्पित होते हुए रसायनों

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

फसल एवं उत्पाद विविधिकरण क्यों है आवश्यक ?

फसल एवं उत्पाद विविधिकरण क्यों है आवश्यक ? – कोविड -19 वैश्विक महामारी के रूप में मानव समाज के समक्ष एक गंभीर-चुनौती प्रस्तुत किया है। इस अभूतपूर्व काल-खण्ड ने भारत के समक्ष भी एक गंभीर चुनौती पेश किया है। देश

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
फसल की खेती (Crop Cultivation)

जैविक खेती प्रशिक्षण सम्पन्न

जैविक खेती प्रशिक्षण सम्पन्न – कटनी ए सी सी सीमेंट वर्क्स लिमिटेड कैमोर के अंतर्गत सी एस आर की लीसा परियोजना के माध्यम से श्रीमती ऐनट विश्वास के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण समन्वयक अमित सोनी के साथ आश्रित ग्राम रजवारा नम्बर

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

जैविक खेती से उगाया 17 किलो का पत्ता गोभी का फूल !

17 अक्टूबर 2020, इंदौर। जैविक खेती से उगाया 17 किलो का पत्ता गोभी का फूल – शीर्षक देखकर चौंकिए मत. यह बिलकुल हक़ीक़त है कि लाहौल के रलिंग गांव के एक किसान श्री सुनील कुमार ने अपने खेत में जैविक

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

पीला सोना सरसों की भरपूर उपज लें

पीला सोना सरसों की भरपूर उपज लें – सरसों (राया) रबी में उगाई जाने वाली राजस्थान व मध्यप्रदेश की प्रमुख तिलहनी फसल है। राजस्थान में सरसों की औसत पैदावार बहुत कम है। सरसों में उन्नत शस्य क्रियाएं व उन्नत किस्मों

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
फसल की खेती (Crop Cultivation)

भारत में रबी मक्का : क्रांति का अग्रदूत

भारत में रबी मक्का : क्रांति का अग्रदूत – भारत में सामान्यता: मक्का की फसल खरीफ मौसम में (जून से अक्टूबर) उगाई जाती है। और वर्षा का भी वही मौसम होता है। यह कम और अधिक जल दोनों के प्रति

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

रबी का मुखिया चना

रबी का मुखिया चना – चना प्रमुख दलहनी फसल है तथा विश्व में सबसे अधिक भारत में पैदा किया जाता है।जलवायु/भूमि : चना उत्तर भारत तथा दक्षिण भारतीय क्षेत्र में सफलता से लिया जाता है। इसके लिए क्षारीय भूमि को

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

रबी प्याज की उन्नत खेती

रबी प्याज की उन्नत खेती – मध्यप्रदेश का मालवां अंचल क्षेत्र में कृषकों के पास पर्याप्त कृषि योग्य भूमि एवं संसाधन हंै। यहां अधिकांश कृषक सीमांत कृषक की श्रेणी में आते हैं अर्धशुष्क जलवायु के साथ मध्यम काली मृदा और

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

गेहूं उत्पादन की नवीनतम तकनीकियां

गेहूं उत्पादन की नवीनतम तकनीकियां – गेहूं मध्यप्रदेश की रबी की सबसे प्रमुख फसल है तथा इसके क्षेत्र, उत्पादन तथा उत्पादकता में पिछले कुछ वर्षों में काफी वृद्धि देखी गई है। प्रदेश की मिट्टी, जलवायु, नवीन प्रजातियों तथा तकनीकियों को

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें