सरसों में रोगों की रोकथाम कैसे करें।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

समाधान

  • सरसों में प्रमुख रूप से काले धब्बे वाला रोग, सफेद रतुआ, डाऊनी मिल्ड्यू तथा तना गलन प्रमुख हैं।
  • फसल पर काला धब्बा, सफेद रतुआ या डाऊनी मिल्डयू रोग दिखते ही, डाइथेन एम-45 के 0.2 प्रतिशत घोल का छिड़काव करना चाहिए। छिड़काव 15 दिन बाद अवश्य दोहरायें। एक एकड़ में 200 लीटर घोल अवश्य छिड़के।
  • यदि आपके क्षेत्र में सरसों में तना गलन रोग हर वर्ष आता है तो बुआई के 45-50 दिन बाद बाविस्टीन के 0.1 प्रतिशत घोल का छिड़काव कर देें। आवश्यकता पडऩे पर 15 दिन बाद छिड़काव दोहरायें।

– योगेश्वर पाटीदार, बारां (राज.)

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 − eight =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।