नीम के उत्पाद से इल्ली की रोकथाम

9 जुलाई 2022, भोपाल: नीम के उत्पाद से इल्ली की रोकथाम – नीम भारतीय मूल का पौघा है, जिसे समूल ही वैद्य के रूप में मान्यता प्राप्त है। इससे मनुष्य के लिए उपयोगी औषधियां तैयार की जाती हैं तथा इसके

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

ट्राईकोडर्मा से बीजोपचार

9 जुलाई 2022, भोपाल: ट्राईकोडर्मा से बीजोपचार – ट्राईकोडर्मा एक ऐसा जैविक फफूंद नाशक है जो पौधों में मृदा एवं बीज जनित बीमारियों को नियंत्रित करता है। बीजोपचार में 5-6 ग्राम प्रति किलोगाम बीज की दर से उपयोग किया जाता है। मृदा उपचार

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

इल्ली नियंत्रण करने के लिए देसी नुस्खे 

9 जुलाई 2022, भोपाल: इल्ली नियंत्रण करने के लिए देसी नुस्खे – खेती में बहुत सारे देसी नुस्खे होते हैं जो पीढ़ी दर पीढ़ी खो जाते हैं।  ये देसी नुस्खे बहुत सारे संक्रमणों को नियंत्रित करने के लिए बहुत प्रभावी हैं।  •

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

जैविक फसल सुरक्षा के लिए कीटनाशक फफूंदनाशी बनाने की विधि 

9 जुलाई 2022, भोपाल: जैविक फसल सुरक्षा के लिए कीटनाशक फफूंदनाशी बनाने की विधि – किसी भी फसल पर या फलदार पेड़ों पर छिड़काव के लिए घर पर ही कम लागत से जैविक फसल के लिए कीटनाशक फफूंदनाशी बनाए जा सकते है । नीमास्त्र : रस चूसने वाले कीट एवं

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

घनजीवामृत (सूखी खाद) बनाने की विधि

9 जुलाई 2022, भोपाल: घनजीवामृत (सूखी खाद) बनाने की विधि – घनजीवामृत (सूखी खाद) अब आप इस प्रकार भी बना सकते हैं। घनजीवामृत के लिए क्या करना है- 1. 100 कि.ग्रा. देशी गाय का गोबर2. 1 कि.ग्रा. गुड़3. 2 कि.ग्रा.

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

बीजामृत (बीज अमृत) से सोयाबीन बीज उपचार कैसे करें

21 जून 2022, नई दिल्ली । बीजामृत (बीज अमृत) से सोयाबीन बीज उपचार कैसे करें – किसान मित्रों! बुआई करने से पहले बीजों का संस्कार अर्थात् संशोधन करना बहुत जरूरी है। इसके लिए बीजामृत बहुत ही उत्तम है। जीवामृत की

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

बीजामृत (बीज अमृत) बनाने की विधि 

10 जून 2022, भोपाल । बीजामृत (बीज अमृत) बनाने की विधि –  किसान मित्रों! बुवाई करने से पहले बीजों का संस्कार अर्थात् संशोधन करना बहुत जरूरी है। इसके लिए जीवामृत बहुत ही उत्तम है। जीवामृत की भांति ही बीजामृत में

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

जानिए उच्च गुणवत्ता जीवामृत बनाने की विधि

1 जून 2022, नई दिल्ली । जानिए उच्च गुणवत्ता जीवामृत बनाने की विधि – बार-बार प्रयोग करने के पश्चात् परिणाम निकला कि एक एकड़ जमीन के लिए 10 कि.ग्रा. गोबर के साथ गोमूत्र, गुड़ और दो-दले बीजों का आटा या बेसन

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें