हरी खाद से बढ़ाएं उपज

18 अक्टूबर 2022, भोपाल: हरी खाद से बढ़ाएं उपज – हरी खाद लेने की विधि: सिंचित अवस्था में मानसून आने के 15 से 20 दिन पूर्व एवं असिंचित अवस्था में मानसून आने के तुरंत बाद खेत अच्छी तरह से तैयार कर

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

जैविक विधि से कीट प्रबंधन

18 अक्टूबर 2022, भोपाल: जैविक विधि से कीट प्रबंधन – विगत कई वर्षों से किसान कीट नियंत्रण के लिये रसायनिक कीटनाशियों का उपयोग करते आ रहे हैं। लेकिन आज इनके उपयोग की कई सीमाएं समझ में आ रही हैं। इसलिये

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

गाजरघास कम्पोस्ट कैसे बनते हैं

18 अक्टूबर 2022, भोपाल: गाजरघास कम्पोस्ट कैसे बनते हैं – गाजर घास कम्पोस्ट कैसे बनते हैं, गाजर घास से कम्पोस्ट बनाने की विधि:  वैज्ञानिकों द्वारा यह संतुष्टि दी जाती है कि कम्पोस्ट बनाने के लिये गाजरघास को फूल आने से पहले ही

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

कृषि में नीम का महत्व

14 अक्टूबर 2022, भोपाल: कृषि में नीम का महत्व – कृषि में नीम का महत्व खेती में रसायनों के अंधाधुंध उपयोग का विकल्प नीम के उत्पाद। नीम की निंबौली में अजाडिरिक्टिन कम्पाउण्ड-एक कीटनाशक रस पाया जाता है। खेती में नीमैक्स जैविक खाद 125-150 किग्रा/हेक्टेयर

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

एन.पी.वी. (न्यूक्लियर पॉली हायड्रोसिस वायरस) क्या है और इसका प्रयोग कैसे करते है 

14 अक्टूबर 2022, भोपाल: एन.पी.वी. (न्यूक्लियर पॉली हायड्रोसिस वायरस) क्या है और इसका प्रयोग कैसे करते है – न्यूक्लियर पॉली हायड्रोसिस वायरस (एन.पी.वी.) पर आधारित हरी सूंडी (हेलिकोवर्पा आर्मीजेरा) अथवा तम्बाकू सूंडी (स्पेडोप्टेरा लिटूरा) का जैविक कीटनाशक है जो तरल रूप में उपलब्ध है। इसमें वायरस

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

ट्राइकोडरमा क्या है और इसका प्रयोग कैसे करते है 

14 अक्टूबर 2022, भोपाल: ट्राइकोडरमा क्या है और इसका प्रयोग कैसे करते है – ट्राइकोडरमा एक घुलनशील जैविक फफूंदनाशक है, जो ट्राइकोडरमा विरडी या ट्राइकोडरमा हरजिएनम पर आधारित है। ट्राइकोडरमा फसलों में जड़ तथा तना गलन/सडऩ उकठा (फ्यूजेरियम आक्सीस्पोरम, स्केल रोसिया डायलेक्टेमिया)

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

जैविक एजेन्ट एवं जैविक कीटनाशकों के प्रयोग द्वारा सतत कृषि रक्षा प्रबंधन

14 अक्टूबर 2022, भोपाल: जैविक एजेन्ट एवं जैविक कीटनाशकों के प्रयोग द्वारा सतत कृषि रक्षा प्रबंधन – प्रदेश में फसलों को कीटों, रोगों एवं खरपतवारों आदि से प्रतिवर्ष 7 से 25 प्रतिशत तक क्षति होती है, जिसमें 33 प्रतिशत खरपतवारों द्वारा, 26 प्रतिशत रोगों द्वारा, 20 प्रतिशत कीटों द्वारा, 7 प्रतिशत

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

गोबर गैस / बायोगैस संयंत्र – ऊर्जा का खजाना

14 अक्टूबर 2022, भोपाल: गोबर गैस / बायो गैस संयंत्र – ऊर्जा का खजाना – गोबर गैस / बायोगैस संयंत्र – ऊर्जा का खजाना खाद का कारखाना प्राकृतिक रूप से प्राणियों के मृत शरीर एवं वनस्पति विघटित होकर सेन्द्रीय खाद के रूप में मिट्टी

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

नाडेप कम्पोस्ट खाद बनाने की विधि

14 अक्टूबर 2022, भोपाल: नाडेपकम्पोस्ट खाद बनानेकी विधि – कम्पोस्ट बनाने का एक नया विकसित तरीका नाडेप विधि है, जिसे महाराष्ट्र के कृषक नारायण राव पान्डरी पांडे (नाडेप टांका) ने विकसित किया है। नाडेप विधि में कम्पोस्ट खाद जमीन की सतह का टांका

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

नाईट्रोजन पूर्ति करने वाले जैव उर्वरक राइजोबियम एवं एजेटोबैक्टर 

14 अक्टूबर 2022, भोपाल: नाईट्रोजन पूर्ति करने वाले जैवउर्वरक राइजोबियम एवं एजेटोबैक्टर – जैव उर्वरक विशिष्ट प्रकार के जीवाणुओं का एक विशेष प्रकार के माध्यम, चारकोल, मिट्टी या गोबर की खाद में ऐसा मिश्रण है जो कि वायु मंडलीय नत्रजन को यौगिकीकरण द्वारा पौधों को उपलब्ध कराती है

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें