lentil

राज्य कृषि समाचार (State News)

सतना जिले में  चना, मसूर और सरसों का उपार्जन 31 मई तक

21 मई 2024, सतना: सतना जिले में  चना, मसूर और सरसों का उपार्जन 31 मई तक – सतना जिले के किसानों से रबी विपणन वर्ष 2023-24 में प्राइस सपोर्ट स्कीम के अंतर्गत चना, मसूर एवं सरसों की खरीदी निर्धारित उपार्जन केंद्रों

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
राज्य कृषि समाचार (State News)

प्रदेश में अब चना, मसूर, सरसों की खरीदी 27 मार्च से

24 मार्च 2021, भोपाल ।  प्रदेश में अब चना, मसूर, सरसों की खरीदी 27 मार्च से – प्रदेश में रबी विपणन वर्ष 2021-22 के तहत प्राईस सपोर्ट स्कीम में चना, मसूर एवं सरसों की खरीदी अब 27 मार्च 2021 से

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

ऐसे करें मसूर की खेती

ऐसे करें मसूर की खेती – भूमि एवं तैयारी : दोमट से भारी भूमि मसूर के लिए उपयुक्त होती है। खरीफ फसल की कटाई के बाद 2-3 हल्की जुताई कर नमी संचय के लिए पाटा लगाना चाहिए। मसूर के लिए

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
समस्या – समाधान (Farming Solution)

ऐसे करें मसूर का अच्छा उत्पादन

समस्या – मैं मसूर लगाना चाहता हूं, अच्छे उत्पादन के लिये क्या करें। समाधान – मसूर यदि समय से अच्छे रखरखाव के साथ लगाई जाये तो अच्छा उत्पादन संभव है। आमतौर पर सबसे खराब खेत तथा कम से कम खर्च

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या- मैंने दो एकड़ में मसूर लगाई थी कटाई के लिये तैयार होने वाली है, इसे काटकर क्या मूंग लगाया जा सकता है। विस्तार से बतायें।

– माखनलाल मौर्य, बनखेड़ी समाधान– आपकी मसूर कटने वाली है आपके पास पानी की सुविधा है इसलिये आप सरलता से मूंग लगा सकते हंै और मूंग उत्पादन  की तकनीकी का विस्तार से प्रकाशन  किया जा चुका है। आप हमारे सदस्य

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
राज्य कृषि समाचार (State News)

मसूर में उकठा, तिवड़े में माहू- उत्पादन कम

रायसेन। कृषि विज्ञान केन्द्र, रायसेन में आत्मा परियोजना अन्तर्गत रबी कृषक वैज्ञानिक परिचर्चा में उपसंचालक कृषि श्री ए.के. उपाध्याय, श्री एस.के. दोहरे, डिप्टी आत्मा, श्रीमती राधा दुबे सदस्य आत्मा गवर्निंग बॉडी व कृषि विज्ञान केन्द्र, रायसेन के वरिष्ठ वैज्ञानिक व

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
फसल की खेती (Crop Cultivation)

कम लागत में लगायें मसूर

भूमि का चुनाव एवं तैयारी  – मसूर सभी प्रकार की भूमि में उगार्ई जा सकती है। किन्तु दोमट और भारी भूमि इसके लिये अधिक उपयुक्त है। भूमि का पी.एच. मान 6.5 से 7.0 के बीच होना चाहये तथा जल निकास

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें