राज्य कृषि समाचार (State News)

कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में वर्चुअली बैठक संपन्न  

Share
इंदौर संभाग में खरीफ मौसम में करीब 23 लाख हेक्टेयर रकबे में होगी बोवनी

07 जून 2023, इंदौर: कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में वर्चुअली बैठक संपन्न  – इंदौर संभाग में इस वर्ष खरीफ मौसम में लगभग 23 लाख हेक्टेयर से अधिक रकबे में बोवनी होगी। इस बार भी संभाग में मुख्य रूप से सोयाबीन, कपास और मक्के की बुआई किसानों द्वारा की जाएगी। संभाग में कम लागत में अधिक उत्पादन प्राप्त करने के लिए जिलेवार सुक्ष्म कार्य योजना तैयार की गयी है। इसके अनुसार किसानों को उनकी मांग अनुसार समय पर बीज,खाद सहित अन्य कृषि आदान उपलब्ध कराए जाएंगे। संभाग में बीज और खाद की पर्याप्त उपलब्धता है।

यह जानकारी आज यहां कृषि उत्पादन आयुक्त श्रीमती वीरा राणा की अध्यक्षता में संपन्न  हुई इंदौर और उज्जैन संभाग की वर्चुअली बैठक में दी  गई । बैठक में भोपाल से अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अशोक वर्णवाल, आयुक्त कृषि श्री सेलवेन्द्रम शामिल हुए। संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा इंदौर संभाग में झाबुआ से तथा कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने इंदौर एनआईसी कक्ष से इस बैठक में भाग लिया। बैठक में संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर्स, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी तथा संबंधित विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे। बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त श्रीमती वीरा राणा ने गत रबी के दौरान प्राप्त उपलब्धियों और आगामी खरीफ मौसम की कार्य योजना के संबंध में चर्चा की। बैठक में खरीफ मौसम के दौरान होने वाली बुआई के संबंध में विशेष रूप से चर्चा की  गई । बताया गया कि कम लागत में अधिक उत्पादन प्राप्त करने के लिए जिले वार सूक्ष्म  कार्य योजना तैयार कर ली  गई  है। इसके अनुसार इंदौर संभाग में इस वर्ष लगभग 23 लाख हेक्टेयर में बोवनी की जाएगी। निर्धारित लक्ष्य के अनुसार संभाग के इंदौर जिले में दो लाख 52 हजार हेक्टेयर में बुआई होगी। इसी तरह संभाग के धार जिले में लगभग 5 लाख 15 हजार, झाबुआ जिले में लगभग एक लाख  90 हजार, आलीराजपुर जिले में एक लाख 88 हजार, खरगोन जिले में 4 लाख 17 हजार, बड़वानी जिले में 2 लाख 39 हजार, खंडवा जिले में 3 लाख 30 हजार तथा बुरहानपुर जिले में एक लाख 19 हजार रकबे में बोवनी का लक्ष्य रखा गया है। संभाग में खाद और बीज का पर्याप्त भंडारण है। किसानों को उनकी मांग के अनुसार समय पर खाद और बीज पर्याप्त मात्रा उपलब्ध कराए जाएंगे।

बैठक में निर्देश दिए गए कि जिलेवार तैयार कार्य योजना का मैदानी स्तर पर बेहतर क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। उत्पादन और उत्पादकता दोनों बढ़े इसकी ओर भी विशेष ध्यान दिया जाए। इंदौर संभाग में प्राकृतिक खेती को विशेष रूप से बढ़ावा दिया जाए। बताया गया कि संभाग में वर्तमान में 12 हजार 479 किसानों ने अपना पंजीयन प्राकृतिक खेती के लिए करवाया है। बताया गया कि संभाग में इस वर्ष मोटे अनाज (मिलेट्स) के रकबे को  बढ़ाने  पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा। बैठक में कृषक ब्याज माफी योजना के क्रियान्वयन पर भी चर्चा की  गई । साथ ही कृषि से जुड़े उद्यानिकी, सहकारिता, पशु चिकित्सा और मछली पालन विभागों की गतिविधियों पर भी चर्चा की
 गई ।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements