सतर्कता जागरूकता सप्ताह के पुरस्कार वितरित

Share

03 नवम्बर 2020, इंदौर। सतर्कता जागरूकता सप्ताह के पुरस्कार वितरित केंद्रीय सतर्कता आयोग, भारत सरकार और भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद् ( भा.कृ.अ.प.) के निर्देशानुरूप भारतीय सोयाबीन अनुसन्धान संस्थान, इंदौर में 27 अक्टूबर से 2 नवंबर तक मनाए गए सतर्कता जागरूकता सप्ताह के पुरस्कार गत दिनों वितरित किए गए।

महत्वपूर्ण खबर : 102 लाख हेक्टेयर में होगी गेहूं की बोनी

संस्थान के सतर्कता अधिकारी डॉ. संजय गुप्ता ने जागरूकता सप्ताह के अंतर्गत आयोजित विभिन्न गतिविधियों और प्रतियोगिताओं की संक्षिप्त रिपोर्ट के साथ विजेताओं की सूची पेश की. आपने सभी से देश की उन्नति में अपने ईमानदार प्रयासों से योगदान देने की अपील की .आपने कहा कि संस्थान के सभी कर्मचारी सोयाबीन कृषकों की आर्थिक उन्नति एवं उत्पादकता वृद्धि हेतु निष्ठा एवं ईमानदारी से प्रयासरत हैं.इस मौके पर गत 31 अक्टूबर को नई दिल्ली स्थित भा.कृ.अ.संस्थान के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी श्री एस.के. सिन्हा द्वारा ‘ सतर्कता द्वारा विभिन्न विधाएँ :भ्रष्टाचार उन्मूलन हेतु सतर्कता की आवश्यकता एवं शासकीय कार्यों में उपयोगिता ‘विषय पर दिए गए विशेष व्याख्यान का भी उल्लेख किया गया .संस्थान की कार्यवाहक निदेशक डॉ. नीता खांडेकर द्वारा विजेताओं को पुरस्कार और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया .अपने उद्बोधन में डॉ .खांडेकर ने संस्थान के सभी कर्मियों से आह्वान किया कि प्रति दिन अपने कार्य निष्पादन में कृषकों की समृद्धि को केंद्रित करें. इसके पूर्व कार्यक्रम के आरम्भ में संस्थान के श्री आर.एन. सिंह ने ज़ूम एप्प के माध्यम से जुड़े सभी कर्मियों का स्वागत किया , वहीं अंत में सुश्री सीमा चौहान द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया.

ये हुए पुरस्कृत – निबंध प्रतियोगिता (विषय -सतर्कता से समृद्धता ) प्रथम श्री श्याम किशोर वर्मा, द्वितीय सुश्री सीमा चौहान,तृतीय श्री संजय यादव.स्लोगन प्रतियोगिता में प्रथम श्री श्याम किशोर वर्मा,द्वितीय डॉ. विराज कांबले, तृतीय श्री रवि मांडवकर ,पोस्टर प्रतियोगिता में प्रथम श्री श्याम किशोर वर्मा ,द्वितीय डॉ. अनिल क्रासको, तृतीय श्री रवि मांडवकर .त्वरित भाषण प्रतियोगिता में प्रथम श्री श्याम किशोर वर्मा ,द्वितीय श्री योगेश सोहनी तथा तृतीय सुश्री पूर्वा दुबे.

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.