सिंजेंटा ने कृषि विश्वविद्यालय में किया ड्रोन से खरपतवारनाशी छिड़काव का प्रदर्शन

Share

21 जनवरी 2022, ग्वालियर । सिंजेंटा ने कृषि  विश्वविद्यालय में किया ड्रोन से खरपतवारनाशी छिड़काव का प्रदर्शन राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय अंतर्गत प्रक्षेत्र परिसर में गत दिवस इंदौर की सिजैंटा कंपनी ने ड्रोन तकनीक से खरपतवारनाशी के छिड़काव का प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में कंपनी ने कृषि विश्व विद्यालय के कुलपति प्रो. एस. के. राव की उपस्थिति में बताया कि किस प्रकार ड्रोन से खरपतवारनाशी के छिड़काव से समय, श्रम और फसल की लागत को कम करके किसानों को फायदा पहुंचाया जा सकता है।

यह प्रदर्शन कृषि विज्ञान केन्द्र के पीछे प्रक्षेत्र परिसर में गेहूं के खेतों में किया गया। इस अवसर पर कंपनी के विशेषज्ञ अमोल सिथोले ने ड्रोन तकनीक से खरपतवारनाशी छिड़काव की उपयोगिता बतलाते हुए कहा कि 1 हेक्टेयर के खेत में 500 लीटर पानी का उपयोग करते हुए करीब तीन श्रमिक 2 से 3 घंटे तक जब खरपतवारनाशी का छिड़काव करते हैं तब छिड़काव पूरा होता है जबकि ड्रोन तकनीक से 6 मिनिट की अवधि में 20 लीटर पानी से 1 हेक्टेयर फसल पर छिड़काव किया जा सकता है।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.