राज्य कृषि समाचार (State News)

मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में नया रिकॉर्ड: 25 लाख से अधिक किसानों को हुआ दावा भुगतान

Share

29 जून 2024, भोपाल: मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में नया रिकॉर्ड: 25 लाख से अधिक किसानों को हुआ दावा भुगतान – मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने किसान लाभार्थी उन्मुखी योजनाएँ सहित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना तथा कृषि विविधीकरण के लिए किया जा रहे प्रयासों पर मंत्रालय में आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में वर्ष 2023-24 में 25 लाख से अधिक किसान लाभान्वित हुए हैं। बीमा दावों का भुगतान भी त्वरित रूप से किया जा रहा है। अटल कृषि ज्योति योजना में 25 लाख 61 हजार, नि:शुल्क विद्युत प्रदाय योजना में 9 लाख 21 हजार और मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना में 80 लाख से अधिक किसान लाभान्वित हुए हैं। रानी दुर्गावती श्रीअन्न प्रोत्साहन योजना में राज्य मिलेट मिशन में वर्ष 2024-25 में कोदो-कुटकी, रागी और ज्वार के 1166 क्विंटल प्रमाणित बीजों का वितरण किया गया। किसानों को कोदो-कुटकी पर एक हजार रुपये प्रति क्विंटल की दर से अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि उपलब्ध कराई जा रही है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत अधिक से अधिक सीमांत और लघु कृषकों को लाभान्वित करने के उद्देश्य से सुधारात्मक उपाय किए जाने की बात कही गई। मुख्यमंत्री ने रानी दुर्गावती श्रीअन्न प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत पौष्टिक श्रीअन्न के उत्पादन और इसकी पैदावार करने वाले किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए हर संभव प्रयास करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री श्री यादव ने धान और गेहूं के स्थान पर अन्य लाभकारी फसलों को बढाने  की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि ऐसी फसलों को बढ़ावा दिया जाए जो सरकारी खरीद पर निर्भर न हों और जिनका दाम बाजार और निर्यात मांग से जुड़ा हो। इसके अलावा, जैविक उर्वरकों को प्रोत्साहित करने और प्राकृतिक खेती को विस्तारित करने पर भी बल दिया गया।

फसल विविधीकरण में इथेनॉल उत्पादन, ऑर्गेनिक उत्पादन और अश्वगंधा के उत्पादन में सकारात्मक परिणाम मिल रहे हैं। किसानों को सस्ते दाम पर कृषि उपकरण उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रदेश में 5 हजार नए कस्टम हायरिंग सेन्टर्स स्थापित किए जा रहे हैं, जिनमें से 3 हजार 964 केन्द्र स्थापित किए जा चुके हैं। बैठक में वरिष्ठ अधिकारियों ने विभिन्न योजनाओं की प्रगति और उपलब्धियों के बारे में भी जानकारी दी।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements