रबी सीजन में किसानों को तत्काल उपलब्ध कराए जाएंगे विद्युत ट्रांसफार्मर

Share

23 सितम्बर 2021, इंदौर रबी सीजन में किसानों को तत्काल उपलब्ध कराए जाएंगे विद्युत ट्रांसफार्मर – राज्य शासन की योजनानुसार पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी किसानों की हरसंभव मदद कर रही है। रबी सीजन की भी कंपनी ने प्रभावी तैयारी कर मालवा-निमाड़ के सभी 15 जिलों की सिंचाई व्यवस्था के लिए साढ़े आठ हजार ट्रांसफार्मरों का अग्रिम स्टाक रखा है। पात्रतानुसार तुरंत ही ट्रांसफार्मर उपलब्ध कराए जाएंगे, ताकि सिंचाई का कार्य प्रभावित न हो।

मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध निदेशक श्री अमित तोमर ने बताया कि ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह  सिंह तोमर के आदेशानुसार कंपनी क्षेत्र के सभी जिलों में ट्रांसफार्मरों की समय पर उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। ट्रांसफार्मर में खराबी आने की सूचना के बाद जल्दी ही इन्हें बदला जाएगा। श्री तोमर ने बताया कि कंपनी क्षेत्र में साढ़े 12 लाख से ज्यादा किसानों को रबी की सीजन में सिंचाई के लिए गुणवत्तापूर्ण बिजली वितरित की जाएगी। इस बार सिर्फ रबी सिंचाई के लिए लोड ही तीन हजार मैगावाट के पार पहुंचने की संभावना है। उन्होंने बताया कि ट्रांसफार्मर में किसी कारणवश खराबी आने पर कम से कम समय में पात्रतानुसार बदला जाएगा। इसके लिए कंपनी स्तर पर कुल साढ़े आठ हजार ट्रांसफार्मरों का स्टाक है। ये ट्रांसफार्मर 25 केवी, 63 केवी, 100 केवी, 200 केवी आदि श्रेणी के है।

श्री तोमर ने बताया कि कंपनी के स्थाई ट्रांसफार्मर डिपो इंदौर, उज्जैन, रतलाम, मंदसौर, धार, बड़वाह में कुल पांच हजार ट्रांसफार्मरों का स्टॉक  रहेगा। इसी तरह रबी की सीजन के लिए बने अस्थाई डिपो देवास, आगर, शाजापुर, मनासा, बुरहानपुर, खंडवा, बड़वानी, झाबुआ, आलीराजपुर में आवश्यकतानुसार 200 से 400 ट्रांसफार्मरों का स्टाक हर वक्त उपलब्ध रहेगा।हर जिले में ट्रांसफार्मरों का पर्याप्त स्टाक होने से किसानों की मांग पर ट्रांसफार्मर दो से तीन घंटे में मौके पर पहुंचाया जा सकेगा। इससे सिंचाई कार्य प्रभावित नहीं होगा।

कंपनी स्तर पर किसानों की मदद के लिए मुख्य अभियंता श्री एसएल करवाड़िया, अतिरिक्त मुख्य अभियंता भंडार श्री  एसआर सेमिल मानिटरिंग कर रहे है, ताकि किसानों की असुविधा का सामना नहीं करना  पड़े। यही नहीं  बिजली कंपनी ने रिपेयरिंग की संभावना वाले ट्रांसफार्मरों के लिए भी विशेष इंतजाम किए है। देपालपुर, महू, सांवेर समेत 44 डिवीजनों  में लोकल रिपेयरिंग यूनिट (एलआरयू) स्थापित की है। ये यूनिट ट्रांसफार्मरों की रिपेयरिंग भी स्थानीय स्तर पर करती है, ताकि जिन ट्रांसफार्मरों को स्थानीय कार्य के आधार पर पुनः उपयोग में लिया जा सकता है, उनका कार्य तुरंत हो पाए ।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.