कृषि सुधारों पर मुख्यमंत्रियों व कृषि मंत्रियों के साथ केंद्रीय कृषि मंत्री का संवाद

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

आत्मनिर्भर भारत‘ की सफलता के लिए जुटा उ.प्र.- मुख्यमंत्री श्री योगी

28 अगस्त 2020, नई दिल्ली। कृषि सुधारों पर मुख्यमंत्रियों व कृषि मंत्रियों के साथ केंद्रीय कृषि मंत्री का संवाद प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश में हो रहे कृषि सुधारों को धरातल पर उतारने के लिए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा लगातार बैठकों के दौर जारी है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत भारत सरकार द्वारा घोषित 1 लाख करोड़ रूपए के कृषि इंफ्रास्ट्रकचर फंड को लेकर भी व्यापक विचार-विमर्श हो रहा है। इसी क्रम में श्री तोमर ने मुख्यमंत्रियों व राज्यों के कृषि मंत्रियों के साथ दूसरे दौर की बैठक गुरूवार को की। इसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री उद्धव ठाकरे सहित विभिन्न राज्यों के कृषि व सहकारिता मंत्री शामिल हुए।

महत्वपूर्ण खबर : पंजाब सरकार द्वारा खरीफ 2020-21 सीजन में खरीद के लिए ऑनलाइन प्रणाली

उत्तर प्रदेश में प्रत्येक विकास खंड में होगा एफपीओ

श्री योगी ने, भरोसा दिलाया कि उ.प्र. सरकार आत्मनिर्भर भारत पैकेज पर किसानों के हित में पूरी प्रतिबद्धता के साथ काम करेगी। श्री योगी ने केंद्रीय योजनाओं की उ.प्र. में प्रगति की जानकारी देते हुए बताया कि पीएम- किसान स्कीम में 2.14 करोड़ से ज्यादा किसानों को लाभ मिला हैं। 1.44 करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड पहले से थे, 12 लाख नए बनाए हैं। 450 एफपीओ पूर्व से हैं, अब हर विकासंखड (कुल 825) में एक-एक एफपीओ बना रहे हैं। उ.प्र. में 45 कृषि उत्पादों को मंडी शुल्क से मुक्त किया गया है। अभी यूरिया की मांग तेजी से बढ़ी है, जिसकी आपूर्ति सामान्य की जा रही है। किसानों के लिए 30 दिनों तक भंडारण निःशुल्क रखा गया है, उससे ज्यादा अवधि के लिए रखने पर शुल्क में 30 प्रतिशत छूट मिलेगी। 8.50 लाख मीट्रिक टन अनाज भंडारण के लिए 5,380 जगह कार्ययोजना बनाई हैं, जिसमें रखे अनाज पर किसान ऋण भी ले सकेंगे।

एफपीओ में 100 सदस्य की सीमा हो

श्री ठाकरे ने पीएम-फसल बीमा योजना में सुधार के सुझाव दिए ताकि किसानों को पूरा लाभ मिलें। एफपीओ में सदस्य संख्या अधिकतम 100 रखने का सुझाव भी दिया। श्री ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने किसानों का कर्ज माफ किया है, किंतु कर्ज मुक्ति एक प्राथमिक उपचार है, हमें किसान को उनके पैरों पर खड़े करने के लिए मूलभूत व्यवस्थाएं करने की जरूरत है।

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि कृषि अधोसंरचना निधि के माध्यम से गांवों-खेतों तक निजी निवेश पहुंचाकर छोटे किसानों की भलाई का उद्देश्य हैं। श्री तोमर ने कहा कि भारत सरकार द्वारा हाल ही में लाए गए ऐतिहासिक अध्यादेशों सहित रिफार्म्स के पीछे एकमात्र उद्देश्य किसानों का हित ही है। इन रिफार्म्स का सार यहीं है कि किसान अपनी जमीन पर स्वयं ही खेती करेगा और जो उपज पैदा होगी, उसे कहीं भी- कभी भी- किसी को भी बेच सकेगा, जिससे उससे अच्छी आय प्राप्त होगी। श्री तोमर ने स्पष्ट किया कि संविदा खेती का मतलब यह कतई नहीं है कि किसान की खेती या जमीन पर किसी और का कब्जा हो जाएगा।

श्री तोमर ने बताया कि एग्री इंफ्रा फंड में स्वीकृतियां जारी हैं। राज्य सरकारें प्रस्तावों को शीघ्र प्रस्तुत कराएं ताकि उनकी मंजूरी होकर इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए राशि तुरंत दी जा सकें। जो राज्य जितनी जल्दी कार्यवाही करेगा, उसे उतनी ही अधिक मदद मिल सकेगी। चर्चा के दौरान श्री तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत, महाराष्ट्र में अतिवृष्टि से प्रभावित 75 लाख किसानों को 5 हजार करोड़ रू. की भरपाई की गई है। इस स्कीम में कंपनियों को अब तीन वर्ष के लिए काम दिया जाएगा, जिससे और सुधार होगा। दस हजार नए एफपीओ बनाने के लिए भारत सरकार साढ़े 6 हजार करोड़ रू. से ज्यादा राशि का निवेश करेगी।

बैठक में केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री श्री परषोत्तम रूपाला व श्री कैलाश चौधरी, उ.प्र. के कृषि मंत्री श्री सूर्यप्रताप शाही, छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री श्री रवींद्र चौबे, तेलंगाना के कृषि मंत्री श्री एस. निरंजन रेड्डी, राजस्थान के कृषि मंत्री श्री लालचंद कटारिया व सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना तथा केरल के कृषि मंत्री श्री वी.एस. सुनील कुमार ने विचार रखें।

कृषि मंत्रालय के सचिव श्री संजय अग्रवाल ने प्रारंभ में भूमिका प्रस्तुत की। संयुक्त सचिव श्री विवेक अग्रवाल ने एग्री इंफ्रा फंड की स्कीम का प्रेजेन्टेशन दिया। योजना से किसान खेती के साथ उद्यमी बनेंगे, भारत विश्व के लिए फूड बास्केट बनेगा, वहीं काफी नए रोजगार भी सृजित होंगे।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − 11 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।