श्रीमती द्रौपदी मुर्मू देश की 15वीं राष्ट्रपति बनीं

Share

25 जुलाई को लेंगी शपथ

25 जुलाई 2022, नई दिल्ली । श्रीमती द्रौपदी मुर्मू देश की 15वीं राष्ट्रपति बनीं – श्रीमती द्रौपदी मुर्मू देश की 15वीं राष्ट्रपति चुन ली गई हैं। द्रौपदी मुर्मू ने विपक्ष के उम्मीदवार श्री यशवंत सिन्हा को हराया और देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर पहुंचीं हैं। वर्तमान राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। ऐसे में 25 जुलाई को द्रौपदी मुर्मू नए राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेंगी। 64 साल की द्रौपदी मुर्मू, प्रतिभा पाटिल के बाद राष्ट्रपति बनने वाली दूसरी महिला हैं। इसके साथ ही वो देश की पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति भी हैं।

20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में जन्मी द्रौपदी मुर्मू आदिवासी संथाल परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उन्होंने भुवनेश्वर के रामादेवी वुमन कॉलेज से आर्ट्स में ग्रैजुएशन किया। द्रौपदी मुर्मू ने सबसे पहले 1997 में ओडिशा के रायरंगपुर नगर पंचायत से पार्षद का चुनाव लड़ा और जीत गईं। इस तरह उनके पॉलिटिकल कैरियर की शुरुआत हुई। इसके बाद 2000 में वो रायरंगपुर से पहली बार विधायक बनीं। बाद में उन्हें 2002 से 2004 के बीच भाजपा-बीजेडी सरकार में मंत्री बनने का मौका मिला। ओडिशा में बीजेपी और बीजू जनता दल गठबंधन सरकार के दौरान मुर्मू 6 मार्च, 2000 से 6 अगस्त, 2002 तक वाणिज्य एवं परिवहन मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रहीं। इसके बाद 6 अगस्त, 2002 से 16 मई 2004 तक मत्स्य पालन एवं पशु संसाधन विकास राज्यमंत्री के तौर पर काम किया। 18 मई 2015 को द्रौपदी मुर्मू झारखंड की नौवीं राज्यपाल बनीं।

महत्वपूर्ण खबर: मध्यप्रदेश में वर्षा का दौर जारी, कई बांधों के गेट खोले

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.