पौने 4 लाख करोड़ रु. का कृषि निर्यात, अच्छा संकेत- केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर

Share

7 जुलाई 2022, नई दिल्ली/ग्वालियर: पौने 4 लाख करोड़ रु. का कृषि निर्यात, अच्छा संकेत- केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर – अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संबंधों पर अनुसंधान के लिए भारतीय परिषद (Indian Council for Research on International Economic Relations-ICRIER/ आईसीआरआईईआर तथा नेशनल स्टाक एक्सचेंज (NSE/एनएसई) के संयुक्त सम्मेलन का आज केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने ग्वालियर से वर्चुअल शुभारंभ किया। इस अवसर पर श्री तोमर ने कहा कि किसान भाइयों-बहनों की कड़ी मेहनत, सरकार की किसान हितैषी नीतियों के परिणामस्वरूप आज भारत अधिकांश कृषि उत्पादों के मामले में विश्व में पहले या दूसरे क्रम पर है। हमारे आर्गेनिक उत्पादों को दुनिया में पसंद किया जा रहा है, कोरोना महामारी जैसी विपरीत परिस्थितियों के बावजूद भारत से लगभग पौने 4 लाख करोड़ रुपए का कृषि निर्यात होना अच्छा संकेत हैं, ऐसे में आगे भी हमारे कृषि उत्पादों की गुणवत्ता ऐसी बनी रहना चाहिए, जो वैश्विक मानकों पर खरी उतरती हो।

देश के प्रमुख आर्थिक थिंक टैंकों में से एक आईसीआरआईईआर व विश्व के सबसे बड़े एक्सचेंज-एनएसई द्वारा “कृषि बाजारों का अधिकार प्राप्त करना” विषय पर परियोजना के लिए सम्मेलन का आयोजन किया गया हैं। इसमें मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि 6,865 करोड़ रुपए के खर्च से देश में 10 हजार कृषक उत्पादक संगठन (एफपीओ) बनाने का काम प्रारंभ हो चुका है। देश में लगभग 85 प्रतिशत छोटे किसान हैं, जो एफपीओ के माध्यम से इकट्ठे होते हैं तो उनका खेती का रकबा व उत्पादन का वाल्यूम बढ़ेगा, उन्हें अच्छा बीज-खाद तथा आसान लोन भी मिलेगा, जिससे कुल मिलाकर किसानों की आय बढ़ेगी व उन्नत खेती होगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने जगह-जगह कस्टम हायरिंग सेंटर की व्यवस्था की है और किसानों को कृषि उपकरणों के लिए सब्सिडी भी दी जा रही है।

केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर ने कहा कि किसानों के हितों के लिए सरकार की काफी योजनाएं है और कम ब्याज पर बैंकों का पैसा भी किसानों के पास आसानी से पहुंच रहा है जिसकी राशि अभी लगभग 16 लाख करोड़ रु. है। इसी तरह, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों को उनकी फसल के नुकसान के मुआवजे के रूप में 1.15 लाख करोड़ रु. की क्लेम राशि अभी तक दी जा चुकी है।

सम्मेलन में आईसीआरआईईआर के चेयरमेन श्री प्रमोद भसीन एवं एनएसई के प्रबंध निदेशक व सीईओ श्री विक्रम लिमये ने भी संबोधित किया। आईसीआरआईईआर में कृषि के इंफोसिस चेयर प्रोफेसर श्री अशोक गुलाटी ने आभार माना। सम्मेलन में एनएसई के निदेशक व मुख्य कार्यकारी डॉ. दीपक मिश्रा, नीति आयोग के सदस्य प्रो. रमेश चंद सहित पैनलिस्ट एवं गणमान्यजन उपस्थित थे।

महत्वपूर्ण खबर: भारी बारिश में सोयाबीन किसान क्या करें

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.