राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

सितंबर-दिसंबर 2024 में होगी पशुओं की गिनती, 21वीं पशुधन गणना के लिए व्यापक कार्यशाला

Share

25 जून 2024, नई दिल्ली: सितंबर-दिसंबर 2024 में होगी पशुओं की गिनती, 21वीं पशुधन गणना के लिए व्यापक कार्यशाला – केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री श्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ​​ललन सिंह ने आज विज्ञान भवन में 21वीं पशुधन गणना की तैयारी के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को रणनीति बनाने और सशक्त करने के लिए एक व्यापक कार्यशाला का उद्घाटन किया। इस कार्यशाला में केंद्रीय राज्य मंत्री प्रो. एसपी सिंह बघेल और श्री जॉर्ज कुरियन भी उपस्थित थे। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री ने 21वीं पशुधन डेटा संग्रह के लिए विकसित मोबाइल एप्लिकेशन का भी शुभारंभ किया।

श्री राजीव रंजन सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि पशुधन क्षेत्र भारत की अर्थव्यवस्था और खाद्य सुरक्षा के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होंने पशुधन गणना की सावधानीपूर्वक योजना बनाने और उसे प्रभावी रूप से लागू करने पर बल दिया।मंत्री ने बताया कि कार्यशाला का उद्देश्य आगामी सितंबर-दिसंबर 2024 में होने वाली पशुधन गणना के लिए एक समन्वित और कुशल दृष्टिकोण सुनिश्चित करना है।

केंद्रीय राज्य मंत्री प्रो. एसपी सिंह बघेल ने कार्यशाला में कहा कि जमीनी स्तर पर व्यापक प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण की आवश्यकता है।केंद्रीय राज्य मंत्री श्री जॉर्ज कुरियन ने पशुधन क्षेत्र में मौजूदा प्रथाओं के एकीकरण पर जोर दिया।

पशुपालन एवं डेयरी विभाग की सचिव सुश्री अलका उपाध्याय ने कार्यशाला के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 21वीं पशुधन गणना की सफलता सुनिश्चित करने के लिए सभी हितधारकों की सामूहिक जिम्मेदारी है और यह पशुपालन क्षेत्र की भविष्य की नीतियों और कार्यक्रमों को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

कार्यशाला में 21वीं पशुधन गणना के लिए कार्यप्रणाली और दिशा-निर्देशों पर विस्तृत सत्र, मोबाइल एप्लिकेशन और डैशबोर्ड सॉफ्टवेयर पर प्रशिक्षण और प्रश्नों और चिंताओं के समाधान के लिए एक खुली चर्चा शामिल थी।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements