राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

सरकार बढ़ती उर्वरक डिमांड के लिए बंद पड़े फ़र्टिलाइज़र कारखानों को पुनर्जीवित कर रही है

Share

20 अक्टूबर 2022, नई दिल्ली: सरकार बढ़ती उर्वरक डिमांड के लिए बंद पड़े फ़र्टिलाइज़र कारखानों को पुनर्जीवित कर रही है – हिंदुस्तान उर्वरक एंड रसायन लिमिटेड (एचयूआरएल) के बरौनी संयंत्र ने यूरिया उत्पादन शुरू कर दिया है। बरौनी प्लांट सरकार द्वारा यूरिया क्षेत्र में आत्मनिर्भरता हासिल करने के लिए फर्टिलाइजर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एफसीआई) और हिंदुस्तान फर्टिलाइजर्स कॉरपोरेशन  (एचएफसी) की बंद यूरिया इकाइयों को पुनर्जीवित करने के लिए की गई पहल का हिस्सा है।

घरेलू स्तर पर निर्मित  यूरिया की उपलब्धता बढ़ाने के लिए एफसीआईएल और एचएफसीएल की बंद इकाइयों का पुनरुद्धार वर्तमान सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता का एजेंडा रहा है। सरकार ने हिंदुस्तान उर्वरक और रसायन लिमिटेड (एचयूआरएल) को 12.7 एलएमटीपीए की यूरिया उत्पादन क्षमता के साथ 8,387 करोड़ रुपये के अनुमानित निवेश के साथ बरौनी इकाई को पुनर्जीवित करने के लिए बाध्य किया था।

एचयूआरएल,  कोल इंडिया (सीआईएल), एनटीपीसी (एनटीपीसी), इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (आईओसीएल) और एफसीआईएल/एचएफसीएल की  एक संयुक्त उद्यम कंपनी है, जिसे गोरखपुर, सिंदरी और बरौनी इकाइयों को 25,000 करोड़ रुपये के अनुमानित निवेश से  पुनर्जीवित करने के लिए अधिकृत किया गया है।

एचयूआरएल के तीनों संयंत्रों के शुरू होने से देश में 38.1 एलएमटीपीए स्वदेशी यूरिया उत्पादन बढ़ेगा।

केंद्र सरकार के सूत्रों के मुताबिक यह परियोजना न केवल किसानों को उर्वरक की उपलब्धता में सुधार करेगी बल्कि देश की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के अलावा सड़कों, रेलवे, सहायक उद्योग आदि जैसे बुनियादी ढांचे के विकास सहित क्षेत्र में अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगी।

महत्वपूर्ण खबर: बड़नगर मंडी में सोयाबीन 6500 रु क्विंटल बिकी

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *