कोरोमंडल इंटरनेशनल ने दक्ष अनमैन्ड सिस्टम्स में किया 20 करोड़ का निवेश

Share

12 दिसम्बर 2022, चेन्नई: कोरोमंडल इंटरनेशनल ने दक्ष अनमैन्ड सिस्टम्स में किया 20 करोड़ का निवेश – कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड भारत की एक अग्रणी कृषि समाधान कंपनी है, जो दो मुख्य उत्पादों न्युट्रिएन्ट्स और संबंधित अन्य उत्पाद एवं फसल सुरक्षा उत्पादों का निर्माण करती है। इनमें खाद, फसल सुरक्षा उत्पाद, स्पेशलिटी न्युट्रिएन्ट्स और जैव एवं जैविक उत्पाद शामिल हैं। कोरोमंडल ने गत दिनों टेक्नोलॉजी से प्रेरित कृषि में रणनीतिक निवेश किया है और कंपनी ने हाल ही में एक ड्रोन स्टार्टअप, दक्ष अनमैन्ड सिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड में 20 करोड़ रुपये का निवेश किया है। यह निवेश कोरोमंडल की उद्योग पूंजी शाखा, डेयर वेंचर्स के ज़रिए किया गया है। बता दें कि भारत सरकार लिक्विड/नैनो उर्वरकों और फसल सुरक्षा उत्पादों के छिड़काव के लिए ड्रोन टेक्नोलॉजी का उपयोग करने को प्रोत्साहन देती रही है। दिसंबर 2021 में सरकार ने कीटनाशक के छिड़काव के लिए ड्रोन के नियमों की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की थी।

इस निवेश पर कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड के एग्जीक्यूटिव वाईस चेयरमैन श्री अरुण अलगप्पन, ने कहा,कोरोमंडल में हम टेक्नोलॉजी को महत्व देते हुए कई स्टार्टअप्स के साथ साझेदारी कर रहे हैं और कृषि प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी मौजूदगी को मजबूत कर रहे हैं। दक्ष में निवेश हमारी इसी कोशिश को दर्शाता है और अनमैन्ड एरियल सिस्टम्स (यूएएस) टेक्नोलॉजी समाधान के क्षेत्र में हमारी स्थिति मजबूत बनाता है। संसाधनों के कुशल उपयोग को महत्व देते हुए कृषि में ड्रोन अपनाने से कृषि उत्पादन की प्रभावशीलता बढ़ने, पानी का उपयोग घटने, खेती में मशीनों के इस्तेमाल को प्रोत्साहन मिलने की प्रबल संभावना होगी और किसान परिशुद्ध कृषि अपनाने के लिए भी प्रेरित होंगे। खेती में ड्रोन के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए सरकार से नीति और नियामक सहायता के संबंध में भी अच्छा समर्थन मिला है। कोरोमंडल में हम ऐसी टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देते रहेंगे जो भारत में फसलों की पैदावार बढ़ाने और सतत कृषि प्रथाओं को संचालित करने में सहायता करेंगी।“

उल्लेखनीय है कि दक्ष, भारत में ड्रोन क्षेत्र के अग्रदूतों में से एक है, जो कृषि, रक्षा, निगरानी और वितरण के साथ सभी प्रकार के अनमैन्ड एरियल सिस्टम (यूएएस) टेक्नोलॉजी समाधान प्रदान करता है। यह चेन्नई में स्थित है और कंपनी ने कई सालों की मेहनत के बाद ड्रोन रिसर्च, परीक्षण, निर्माण और ग्राहक सहायता में महारत हासिल की है। बैटरी से चलने वाले ड्रोन बनाने की काबिलियत हासिल करने के अलावा दक्ष पेट्रोल इंजन से चलने वाला ड्रोन बनाने वाली भारत की एकमात्र कंपनी है।

महत्वपूर्ण खबर: गेहूं में उर्वरकों की मात्रा एवं उनका प्रयोग

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *