कम्पनी समाचार (Industry News)

सिंजेंटा का फ्युजिफ्लेक्स करे खरपतवार का तुरंत खात्मा

Share

10 जुलाई 2024, इंदौर: सिंजेंटा का फ्युजिफ्लेक्स करे खरपतवार का तुरंत खात्मा- देश की प्रसिद्ध कम्पनी सिंजेंटा इंडिया लि. का उत्पाद फ्यूजिफ्लेक्स खरपतवारों का तेज़ी से खात्मा करता है, इसलिए यह किसानों की पहली पसंद बना हुआ है। इसका प्रयोग आसान है और परिणाम आश्चर्यजनक मिलते हैं।

चौड़ी पत्ती और घास खरपतवारों का नाश – सिंजेंटा के उत्पाद फ्यूजिफ्लेक्स का लक्ष्य मुख्यत: सोयाबीन फसल में लगने वाले चौड़ी पत्ती और घास खरपतवारों जैसे डिगेरा अर्वेसिस, एकिनोक्लोआ कोलोना, डिनेब्रा अरेबिका, ट्रायएंदेमा प्रजाति, डिजिटारिया प्रजाति, एकालिफा इंडिका, एल्यूइसिन इंडिका, ब्रकारिया रैप्टन्स, डेक्टिलोक्टेनियम इजिप्टिकम, पिलैथस निरूरी जैसे खरपतवारों को तेज़ी से मिटाना है।

फ्युजिफ्लेक्स की विशेषताएं – अन्य खरपतवार नाशकों की तुलना में फ्युजिफ्लेक्स औरों से दस कदम आगे है। यह चीते की तरह फसल पर फुर्ती से असर करता है। इससे खरपतवारों पर जल्द नियंत्रण हो जाता है। फ्यूजिफ्लेक्स 3-4 घंटे में ही खरपतवार की बढ़वार को रोक देता है और एक दो दिन में ही खरपतवार खत्म होने के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। चौड़ी और संकरी पत्ती के खरपतवारों पर यह बहुत प्रभावी है और सम्पूर्ण नियंत्रण करता है। फ्यूजिफ्लेक्स का अकेला छिड़काव ही खरतपवार समस्या का सरल समाधान है। फ्यूजिफ्लेक्स के छिड़काव के बाद फसल की वृद्धि रूकती नहीं है और फसल फुर्तीली रहती है। इसके कारण नए पत्ते हरे-भरे और स्वस्थ रहते हैं।

प्रयोग एवं मात्रा – इसका प्रयोग लगभग 12 से 18 दिन की फसल पर तब करना चाहिए जब खरपतवार 3 – 4 पत्ती की अवस्था में हो। इसकी 400 मिली लीटर मात्रा / एकड़ की दर से 200 लीटर पानी के साथ प्रयोग करना चाहिए।

यहां इस बात का ध्यान रखें कि प्रयोग के समय और उसके बाद मिट्टी में नमी होना ज़रूरी है। इसका प्रयोग ट्रैक्टर से जिसमें कई सारे फ्लॅटफेन नोज़ल लगे हों उससे अथवा नेपसेक स्प्रेयर , फ्लडजेट या फ्लॅटफेन नोज़ल के साथ किया जा सकता है।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements