Share

इंदौर। धार जिले के ग्राम एहमद के किसान श्री राजेश शांतिलाल पाटीदार (39) की औपचारिक शिक्षा तो दसवीं ही है, लेकिन पिताजी की प्रेरणा से खेती में नई तकनीकों को अपनाकर इसे लाभ का धंधा बनाने में जुटे हुए हैं। उन्हें उद्यानिकी के तहत 15 बीघे की गेंदे की फसल से 11 लाख का शुद्ध मुनाफा हुआ है। जबकि गर्मी में 20 बीघा क्षेत्र में लगाए अमरुद के 8 हजार पौधों से अगली दिवाली तक उत्पादन शुरू हो जाएगा।
श्री राजेश ने बताया कि 20 बीघे में गेंदे की फसल लगाई है, जिसमें से 15 बीघे की फसल में साढ़े 15 लाख का उत्पादन हुआ, जिसमें 11 लाख का शुद्ध मुनाफा हुआ। जबकि 5 बीघे की फसल निकालना बाकी है। इसी तरह उद्यानिकी के तहत श्री राजेश ने 20 बीघा में गत अप्रैल से जून के दौरान दो किश्तों में अमरुद के 8 हजार पौधे सघन बागवानी पद्धति से पास-पास लगाए हैं। इससे उत्पादन 3-4 गुना ज्यादा मिलता है। पौधों की किस्म थाईलैंड की है। जिसके पौधे हैदराबाद से बुलवाए थे। इन पौधों की कीमत प्रति पौधा 50 रुपए और कुछ पौधों की कीमत 100 प्रति पौधा है। सिंचाई के लिए फिलहाल एक ड्रिप लाइन लगाई है। पौधे बड़े होने पर दो ड्रिप लाइन और लगाएंगे। उत्तम प्रजाति के इस जामफल की फसल 18 माह में तैयार हो जाती है। आगामी दीपावली तक उत्पादन शुरू हो जाएगा।
श्री पाटीदार ने गत जनवरी में महाराष्ट्र का भ्रमण कर वहां के किसानों द्वारा अपनाई जा रही नई तकनीकों का अवलोकन किया और अपने खेतों में अपनाया। महाराष्ट्र पैटर्न पर श्री पाटीदार ने खेत में साढ़े तीन बीघा में 16 लाख की लागत से प्लास्टिक बिछाकर तालाब का निर्माण भी किया है जिसकी क्षमता 2 करोड़ 40 लाख लीटर है।
तीन कुंए हुए एक नदी से पाइप लाइन डालकर इस तालाब को भरा गया है। जिसका उपयोग गर्मी में नदी और कुँओं के पानी के उपयोग के बाद किया जाएगा।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *