समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या – समाधान (Farming Solution) में विभिन्न फसलों के लिए किसानों की समस्याओं के जवाब, कृषि संबंधी समाधान, पौधों की सुरक्षा, बीज का चयन, बुआई और खेती कैसे करें शामिल हैं। समस्या – समाधान (Farming Solution) में बीज उपचार, खरपतवार नियंतरण, रोगोन और संक्रमण से सुरक्षा आदि भी शामिल हैं। इसमें कीट और रोग संलग्न, सिंचाई समस्या, मौसम संबंधी समस्याएं, मिट्टी जनित रोग संबंधी समस्याएं, बीज चयन, उर्वरक खुराक सुधार से संबंधित समस्याएं भी शामिल हैं। इसमें गेहूं, सोयाबीन, चना, धान, बासमती जैसी फसलें और आम, सेब, पपीता, अमरूद, बिंदी, भिंडी, टमाटर, प्याज, फूलगोभी, मटर, ड्रैगन फ्रूट, तोरी आदि फल और सब्जियां (बागवानी फसलें) शामिल हैं। इसमें कीटों और बीमारियों के लिए कृषि रसायनों की सही खुराक और उर्वरक अनुप्रयोग के लिए सही खुराक भी शामिल है।

समस्या – समाधान (Farming Solution)

हम कुछ किसान ग्वारगम लगाना चाहते हैं। बीज कहां मिलेगा। कृपया इसकी तकनीक बतायें।

– देवराज सिंह, डोहरिया, इलाहाबाद समाधान-  ग्वारगम की खेती जून की बुआई के द्वारा संभव है। रबी/जायद की फसल केवल सब्जी के उद्देश्य से लगाया जा सकता है। निम्न तकनीकी तथा पते पर संपर्क कर सकते हैं। खेत की तैयारी

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

वर्मी कम्पोस्ट खेती के लिए उपयोगी

जैविक खादों का महत्व : जैविक खादों के प्रयोग से  मृदा का जैविक स्तर एवं जीवाणुओं की संख्या बढ़ जाती है और मृदा की उपजाऊ शक्ति बनी रहती है। भूमि की उर्वरा शक्ति बनाए रखने के लिये कार्बनिक/प्राकृतिक खादों का

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या- मैं मसूर उत्पादन करना चाहता हूं। तकनीकी, अच्छा बीज कहां मिलेगा। कौन सा बीज अच्छा है कृपया लिखें।

– जसवंत सिंह, रेहली समाधान-  आप मसूर लगाना चाहते हैं। अभी इसे लगाने का समय है। इस बीच आप आदान की व्यवस्था कर सकते हैं। आप निम्न बिन्दुओं पर ध्यान दें। इसकी जातियों से पंत मसूर 2639, जवाहर मसूर 1,

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या- क्या हमारे क्षेत्र में परवल लगाया जा सकता है उत्पादन के लिए मार्गदर्शन दें।

– मनमोहन चौधरी, सोहागपुर समाधान – आपके क्षेत्र में पान के बरेजों में उच्च गुणवत्ता का स्वादिष्ट परवल पैदा किया जा सकता है जो कई दशकों से चल रहा है। आप भी परवल अलग से लगा सकते हैं। क्योंकि आपके

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

हम खेती के साथ-साथ मधुमक्खी पालन भी करना चाहते हैं इसके लिये बक्से इत्यादि कहां मिलेंगे तथा ट्रेनिंग कहां मिलेगी

– नारायण पवार, चारगांव, छिंदवाड़ा समाधान- खेती के साथ मधुमक्खी पालन कार्य आज की आवश्यकता तथा कम खर्च में अधिक पैसा कमाने का जरिया हो सकता है। मधुमक्खी पालन का सबसे उपयुक्त समय शरद काल है। खेतों में फूल ही

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या- खरीफ में सूरजमुखी लगाना चाहते हैं कब लगायें, कौन सी जाति उपयुक्त होगी।

– गयाप्रसाद चौरे, बनखेड़ीसमाधान- सूरजमुखी खरीफ, रबी, जायद सभी मौसम में लगाई जा सकती है परन्तु एक सलाह है आप अपने साथ अन्य कृषकों को भी प्रेरित करके सूर्यमुखी का थोड़े-थोड़े रकबा में लगाने की सलाह दें इससे पक्षियों द्वारा

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
समस्या – समाधान (Farming Solution)

धान की अच्छी जातियां कौन- कौन सी हैं, कब लगायें कितनी अवधि की है तथा उत्पादन प्रति हेक्टेयर क्या होगा

– अर्जुन पटेल, सिवनी समाधान- वर्तमान में परम्परागत फसल धान के क्षेत्र में एक बार फिर से ना केवल अपना परम्परागत क्षेत्र वापस लिये बल्कि नये क्षेत्रों में विस्तार भी किया है। सोयाबीन फसल जहां भी बढ़ाई गई उसके कुछ

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या- खरीफ मौसम में तिल लगाना है कृपया उन्नत जातियां कौन-कौन सी हैं विस्तार से बतायें।

– अमरनाथ वर्मा, दमोह समाधान- आप खरीफ मौसम में तिल लगाना चाहते हैं जैसा कि अनुमान लगाया जा रहा है। वर्षा के तेवर कुछ गड़बड़ हो सकते हैं। ऐसे मौके पर हिसाब से इसे लगाना अधिक उपयोगी होगा। उन्नत किस्मों

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या- सोयाबीन में बीजोपचार का क्या कोई लाभ है?

– रमेश वर्मा, विदिशा समाधान – अधिकांश किसान सोयाबीन की खेती वर्षों से एक ही खेत में करते चले आ रहे हैं। लगातार खेती होने के कारण सोयाबीन के खेतों में सोयाबीन फसल के रोगों के जीवाणु, फफूंद भी भूमि

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
समस्या – समाधान (Farming Solution)

समस्या – सोयाबीन के बीजों में बुआई पूर्व कई प्रकार के बीजोपचार के रोग होते हैं कौन सा कब करना होगा बतायें।

– छन्नू लाल, लखनादौन समाधान- सोयाबीन के बीजों पर कम से कम 10-15 प्रकार की फफूंदी रहती है। जिनको समाप्त करना जरूरी होता है ताकि अच्छा अंकुरण मिल सके। आप निम्न करें।  सबसे पहले बीज की छंटाई/छनाई करके अच्छा बीज

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें