kharif

Uncategorized

देश में खरीफ बोनी 685 लाख हे. में

नई दिल्ली। देश में खरीफ फसलों की बोनी लगातार बढ़ रही है। मानसून सक्रिय हो गया है। 21 जुलाई तक 685.31 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की बुवाई की गई है, जबकि पिछले वर्ष इसी समय 673.41 लाख हेक्टेयर क्षेत्र

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Uncategorized

खरीफ फसल हेतु आवश्यक उपाय

अधिकांश रूप से ऐसा देखा गया है कि या तो वर्षा समय पर प्रारंभ नहीं होती या उसका वितरण फसल की आवश्यकता के अनुसार नहीं होता है, जिसके कारण कई अवस्थाओं में या तो पानी अधिक होता है, जिससे हानि

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
संपादकीय (Editorial)

खरीफ मूंग की उन्नत खेती

  जलवायु:- यह मुख्यतया 60 से 75 से.मी. वर्षा वाले क्षेत्रों के लिए एक महत्वपूर्ण फसल है। इसको गर्म जलवायु की आवश्यकता होती है यह सूखे को बहुत अच्छी तरह सहन कर सकती है। इसको मुख्यत: खरीफ एवं गर्मी के

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
फसल की खेती (Crop Cultivation)

लगायें खरीफ में मक्का

खेत की तैयारी अच्छे निथार वाले बालू भूमि की तैयारी एक या दो बार बक्खर चलाकर मिट्टी भुरभुरी कर लें। आखिरी बार बखरनी के पहले एक हेक्टेयर में 20 किलो फाली डाल डस्ट डालकर मिला लें और 15 टन गोबर

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Uncategorized

खरीफ में आये सब्जियों की बहार

खरीफ के मौसम में वातावरण में नमी एवं तापमान की अधिकता तथा वर्षा ऋतु के कारण सब्जियों का चयन सावधानीपूर्वक करना चाहिए। इस मौसम में कद्दूवर्गीय सब्जियॉं जैसे लौकी, गिलकी, करेला, खीरा आदि को लगाया जाना उपयुक्त होता है। इसके

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
उद्यानिकी (Horticulture)

खरीफ फसलों में जिंक, सल्फर की कमी को पहचानें

उत्पादन प्राप्त करने के लिये केवल नाईट्रोजन, फास्फोरस एवं पोटाश का प्रयोग मृदा में किया जाता है। बाकी तत्वों के बारे में विस्तार कार्यकर्ता एवं कृषकों को बहुत कम जानकारी है, या है ही नहीं। लेकिन उन तत्वों की कमी

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Uncategorized

इस वर्ष खरीफ बुवाई में तेजी

563 लाख हेक्टेयर में हुई बोनी नई दिल्ली/भोपाल। देश में अब तक 563.17 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की बुवाई की गई, जबकि पिछले वर्ष इसी समय 521.80 लाख हेक्टेयर बुवाई की गई थी। कृषि मंत्रालय के मुताबिक अब तक

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Uncategorized

खरीफ फसलों में खरपतवार की समस्या एवं समाधान

खरपतवार फसलों के साथ प्रकाश, स्थान, नमी तथा पोषक तत्वों के साथ स्पर्धा करते हैं, यह प्रतिस्पर्धा प्रारंभिक अवस्था में अधिक होती है। जिसमें फसल की बढ़वार अत्यधिक प्रभावित होती है जिससे अन्तत: उपज में गुणात्मक नुकसान पहुंचता है। उपज

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Uncategorized

खरीफ फसलों में खरपतवार प्रबंधन

प्रकृति ने अनेक प्रकार की वनस्पतियों को भिन्न प्रकार की जलवायु एवं परिस्थितियों में फलने-फूलने का अवसर दिया है । खेती में मुख्य फसल के अलावा उगने तथा बढऩे वाले अवांछनीय पौधों को खरपतवार की संज्ञा दी गई है। यदि

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें