राज्य कृषि समाचार (State News)

कानकुण्ड में प्राकृतिक खेती पर किसानों को दिया प्रशिक्षण

Share

08 दिसम्बर 2022, देवास: कानकुण्ड में प्राकृतिक खेती पर किसानों को दिया प्रशिक्षण – जिले में कृषि विकासखण्ड देवास के ग्राम कानकुण्ड में कृषि विस्तार सुधार कार्यक्रम (आत्मा) अंतर्गत किसान संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें प्राकृतिक खेती पर किसानों को प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख कृषि विज्ञान केन्द्र देवास डॉ. ए.के. बड़ाया ने कृषकों को रबी फसलों में गेहूं एवं चने की उन्नत व अधिक उत्पादन देने वाली किस्मों से अवगत कराया। गेहूं एवं चने में होने वाले रोग एवं कीट प्रबंधन की जानकारी विस्तृत रूप से दी। परियोजना संचालक आत्मा श्रीमती नीलमसिंह चौहान ने कहा कि जीरो बजट प्राकृतिक खेती देशी गाय के गोबर और गोमूत्र पर आधारित है।

कृषि विज्ञान केन्द्र देवास के वैज्ञानिक डॉ. महेन्द्र सिंह ने कृषकों को कम लागत में अधिक उत्पादन प्राप्त करने की तकनीक पर जोर देते हुए कृषकों को बताया कि किसान स्वालम्बी बनें एवं स्वयं का बीज, स्वयं का खाद, स्वयं का कीटनाशक तैयार करें जिससे बाजार की निर्भरता कम होगी। वैज्ञानिक डॉ. सविता कुमारी ने कृषकों को गेहूं एवं चने की फसल के लिये आवश्‍यक पोषक तत्वों की जानकारी प्रदाय की एवं उपस्थित सभी कृषकों को मिट्टी की जाँच कराने की सलाह दी, साथ ही मिट्टी का नमूना लेने की विधि भी विस्तृत रूप से बताई।

उप परियोजना संचालक आत्मा श्री एम.एल. सोलंकी ने आजादी का अमृत महोत्सव केम्पेन चतुर्थ फसल बीमा सप्ताह कार्यक्रम अंतर्गत प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की जानकारी दी। श्री दीपज्योति जैविक किसान संस्थान से उपस्थित श्री दीपक राव ने बताया कि एक एकड़ में जीवामृत बनाने के लिये देशी गाय का गोबर 10 किलोग्राम, देशी गाय का गोमूत्र 10 लीटर, गुड़ व बेसन 1-2 किलो एवं बरगद या पीपल के पेड़ के नीचे की मिट्टी एक किलो ग्राम को 200 लीटर पानी में तैयार किया जाता है। 6 से 7 दिनों में जीवामृत तैयार हो जाता है। जीवामृत को मृदा में डालने से मृदा में जीवाणुओं की संख्या में वृद्धि होती है। कार्यक्रम का संचालन श्री रोहित यादव, विकासखण्ड तकनीकी प्रबंधक देवास ने किया। आभार प्रदर्शन श्री अंतिम वासुरे सहायक तकनीकी प्रबन्धक ने किया ।

महत्वपूर्ण खबर: कपास मंडी रेट (07 दिसम्बर 2022 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *