तीन दिवसीय सोया महाकुंभ का हुआ समापन

Share

1 जून 2022, इंदौर । तीन दिवसीय सोया महाकुंभ का हुआ समापन भाकृअनुप-भारतीय सोयाबीन अनुसंधान संस्थान; सोयाबीन अनुसंधान और विकास सोसायटी; सोलीडारीडेड, भोपाल तथा सोपा, इंदौर के संयुक्त तत्वावधान में  सोयाबीन की उन्नत उत्पादन तकनीकी , नवीनतम कृषि पद्धतियों एवं उन्नत किस्मों का सोया कृषकों में प्रचार प्रसार बढ़ाने के उद्धेश्य से देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर के सभागार में आयोजित इस तीन दिवसीय सोया महाकुंभ और कृषि प्रदर्शनी का समापन हो गया । इस आयोजन में मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और राजस्थान जैसे प्रमुख सोया उत्पादक राज्यों के 4300 सोया किसानों ने भाग लिया।

भारतीय सोयाबीन अनुसंधान संस्थान की कार्यवाहक निदेशक डॉ नीता खांडेकर ने बताया कि सोयाबीन की बुवाई के मौसम से ठीक पहले सोयाबीन उत्पादकों के तकनीकी ज्ञान को अद्यतन करने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। अंतिम दिन, कृषि मेले में भाग ले रहे किसानों के लिए ;किसान सम्मान निधि का वितरण गरीब कल्याण सम्मेलन कार्यक्रम के सीधे प्रसारण की विशेष व्यवस्था की गई, जिसमें प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा केंद्र सरकार की ओर से देश के करोड़ों छोटे और सीमांत किसानों के बैंक खाते में सीधे 11,000 करोड़ रुपये जमा किए गए । इस मौके पर सांसद श्री शंकर लालवानी ने सोयाबीन की नई कृषि प्रौद्योगिकियों और पद्धतियों, नवीनतम किस्मों के प्रचार-प्रसार के लिए सोशल मीडिया के उपयोग की सराहना की। वहीं सोयाबीन अनुसंधान और विकास सोसायटी के अध्यक्ष डॉ संजय गुप्ता ने कहा कि उनकी सोसाइटी सोयाबीन आधारित अर्थव्यवस्था में  शामिल हितधारकों के हित में प्रचार-प्रसार की गतिविधियों को जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध है।

इस अवसर पर सोया कृषकों के लिए अपने उत्पादों, प्रौद्योगिकियों और सलाहकार सेवाओं को प्रदर्शित करने वाले संगठनों को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनी स्टाल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सरकारी श्रेणी में पहले तीन विजेता संस्थानों में कृषि विभाग, महाराष्ट्र राज्य (प्रथम); आईसीएआर-केंद्रीय कृषि इंजीनियरिंग संस्थान, भोपाल (द्वितीय) और संयुक्त रूप से नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड एवं आईजीएफआरआई, झांसी (तृतीय)। इसी तरह निजी कंपनियों में विजेताओं में कृभको (प्रथम) बेयर क्रॉप साइंसेज (द्वितीय) तथा संयुक्त रूप से ईगल सीड्स एंड बायोटेक लिमिटेड और जेके पेपर को (तृतीय ) शामिल थे। हर वर्ष  सोया महाकुंभ का आयोजन जारी रखने की घोषणा की गई। अंत में,कार्यक्रम का समापन आयोजन सचिव  डॉ मनोज श्रीवास्तव के धन्यवाद ज्ञापन के साथ हुआ।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.