छत्तीसगढ़ में खरीफ 2022 के लिए 5800 करोड़ रुपए के ऋण वितरण का लक्ष्य

Share

27 जून 2022, रायपुर । छत्तीसगढ़ में खरीफ 2022 के लिए 5800 करोड़ रुपए के ऋण वितरण का लक्ष्य – खरीफ सीजन 2022 में राज्य के किसानों को 5800 करोड़ रूपए का अल्पकालीन ऋण दिए जाने के लक्ष्य के विरूद्ध अब तक 8 लाख 19 हजार 534 किसानों को 3243 करोड़ 83 लाख 50 हजार रूपए का ऋण वितरित किया जा चुका है। ऋण लेने वाले किसानों की संख्या और राशि बीते खरीफ सीजन में इसी अवधि तक वितरित ऋण एवं किसानों की संख्या की लगभग दोगुनी है। खरीफ सीजन 2021 में 24 जून तक  राज्य के 4 लाख 66 हजार किसानों ने 1760 करोड़ 63 लाख रूपए का ऋण लिया था।

यह जानकारी सहकारिता मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम की अध्यक्षता में आयोजित समीक्षा बैठक में दी गई। डॉ. टेकाम ने अधिकारियों को किसानों को 5800 करोड़ रूपए का अल्पकालीन कृषि ऋण सितम्बर माह तक अनिवार्य रूप से वितरित करने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप लाख पालन एवं मछली पालन, डेयरी एवं पशुपालन के लिए किसानों को प्राथमिकता से ऋण मुहैया कराने के निर्देश दिए। धान के बदले अन्य फसलों की खेती करने वाले किसानों को ऋण वितरण की अद्यतन स्थिति की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे किसानों को प्रोत्साहित किया जाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए।

मंत्री डॉ. टेकाम ने बैठक में रासायनिक खाद एवं खरीफ फसलों के बीज के भण्डारण एवं वितरण की स्थिति की भी गहन समीक्षा की। उन्होंने कहा कि खाद-बीज की गुणवत्ता एवं वितरण की स्थिति पर निरंतर निगरानी रखी जानी चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को खाद के वितरण व्यवस्था पर कड़ी निगाह रखने तथा इसमें गड़बड़ी करने वाले के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही के भी निर्देश दिए। मंत्री डॉ. टेकाम ने कहा कि विभागीय अधिकारी कृषि विभाग के अधिकारियों एवं उर्वरक निरीक्षकों से समन्वय बनाकर राज्य में खाद एवं बीज के वितरण की व्यवस्था बेहतर बनाए, ताकि किसानों को दिक्कत न होने पाए। 

बैठक में बताया गया कि धान के बदले अन्य फसलों की खेती के लिए सहकारी बैंकों के माध्यम से अब तक राज्य के 7689 कृषकों को 33.38 करोड़ रूपए का ऋण प्रदाय किया  जा चुका है, जिसमें मुख्य रूप से उद्यानिकी, दलहन-तिलहन और मिलेट्स की खेती करने वाले किसान मुख्य रूप से शामिल हैं।

महत्वपूर्ण खबर: किसानों के लाभ के लिए कृषि को उन्नत खेती में बदलना आवश्यक – केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.