उर्वरको, बीजों की कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें- कलेक्टर श्री जैन

Share

04 नवम्बर 2020, शाजापुर। उर्वरको बीजों की कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें- कलेक्टर श्री जैन – उर्वरको, दवा एवं बीजों को तय मूल्य से अधिक दाम पर बेचने की समाचार पत्रों एवं आमजनता के माध्यम से प्राय: शिकायतें प्राप्त हो रही है। उपसंचालक किसान कल्याण एवं कृषि विकास तथा सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व उर्वरको, दवा एवं बीजों की कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें। उक्त निर्देश कलेक्टर श्री दिनेश जैन ने आज उर्वरको, खाद, बीज, दवा की आपूर्ति एवं उपलब्धता की समीक्षा करते हुए दिये। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ श्रीमती मिशा सिंह, अपर कलेक्टर श्रीमती मंजूषा विक्रांत राय, संयुक्त कलेक्टर श्रीमती शैली कनाश, अनुविभागीय अधिकारी शाजापुर श्री एसएल सोलंकी व शुजालपुर श्री प्रकाश कस्बे, डिप्टी कलेक्टर श्री अजीत श्रीवास्तव, सुश्री प्रियंका वर्मा व श्रीमती जूही गर्ग सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

महत्वपूर्ण खबर : राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार हेतु नामांकन प्रारंभ

कलेक्टर ने उर्वरक, दवा एवं बीजों की उपलब्धता समीक्षा करते हुए कहा कि विक्रेताओं से प्रत्येक उत्पादो की भाव सूची बाहर प्रदर्शित करवाएं। साथ ही ऐसे विक्रेताओं या प्रतिष्ठानों जिन्हें पूर्व में ब्लेक लिस्टेड किया गया है और फिर भी वे छद्म नाम से व्यवसाय कर रहे हैं, ऐसे लोगों के विरूद्ध भी सख्त कार्यवाही करें। कलेक्टर ने कहा कि स्वसहायता समूहों को लायसेंस दिलवाकर खाद, बीज का विक्रय कराया जा सकता है, इससे किसानों को वाजिब मूल्यों पर सामग्री प्राप्त होगी। प्रधानमंत्री फसल बीमा के दावों के निपटारे के लिए बीमा कंपनी के प्रतिनिधि को बुलाकर कार्यवाही संपादित कराएं। जिले में सरसो का क्षेत्रफल बढ़ाने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करें। कलेक्टर ने उपसंचालक उद्यानिकी श्री केपीएस परिहार को निर्देश दिये कि प्रधानमंत्री कृषि अधोसंरचना कोष के तहत जिले में प्याज भंडारण गोदाम बनाने के लिए सहमत किसानों के नाम देने के निर्देश दिये। जिला आपूर्ति अधिकारी श्री एचआर सुमन एवं नागरिक आपूर्ति निगम जिला प्रबंधक श्री प्रवीण रघुवंशी को जिले में खराब गुणवत्ता वाला खाद्यान्न वितरित नहीं होने देने के निर्देश दिये।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.