अनाज का वैज्ञानिक भण्डारण

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

अनाज का वैज्ञानिक भण्डारण

अनाज का वैज्ञानिक भण्डारण – अनाज का उचित भण्डारण ना करने के कारण कुल पैदावार का 10-12 प्रतिशत कीड़े, चूहे व अन्य जीव जन्तु व नमी द्वारा नष्ट होता है। इस प्रकार प्रति वर्ष देश को लगभग 7000 करोड़ रूपये की लागत से भी ज्यादा का नुकसान सहन करना पड़ता है। घरों में आज भी किसान साधारणतया पुराने भण्डारण तरीकों, बर्तन एवं उपरकरणों का प्रयोग करते है जिससे अनाज खराब होता है। अधिक नमी वाले अनाज का भंडारण करने से अनाज में कीड़े जल्दी व तेजी से पनपते हैं। कीड़ों, चूहों तथा नमी द्वारा खाया व खराब किया अनाज न तो खाने के और न ही बेचने के योग्य रहता है तथा उस की पौष्टिकता व गुणवता भी नष्ट हो जाती हैं। इसलिए अनाज का सदा वैज्ञानिक ढंग से भण्डारित करें ताकि भण्डार से होने वाले नुक्सान से बचाया जा सके।

अनाज कैसे नष्ट/खराब होता है

  • नमी वाला अनाज भंडारण करने से।
  • घर में अनाज को खुला रखने से।
  • अनाज ढोने वाले वाहनों की सफाई ना होने से।
  • पुरानी बोरियों में अनाज ढोने और भण्डारण करने से ।
  • अनाज रखने वाली जगह की सफाई ठीक ढंग से न करने पर।
  • उस जगह को कीट रहित न करने से।
  • अनाज का विधिनुसार भण्डारण न करने से।
  • पुराने व नये अनाज को मिलाने से।

ये कीड़े कहां रहते है?

प्राय: कीड़े बहुत ही छोटे-छोटे होते है व इनका रंग भी अनाज तथा बोरियों से मिलता जुलता है। यदि इन्हें ध्यान से न देखा जाये तो यह आसानी से दिखाई नही पड़ते। उनके छुपे रहने के भी कई स्रोत है।

  • पुराने अनाज भंडारण, की दीवारों, छतों व फर्श पर जहां इन्हें थोड़ा सा खुरदरा सामान मिलता है छुप जाते हैं तथा अनाज आते ही तेजी से अनाज का खाना व प्रजनन करना आरम्भ कर देते हैं।
  • भण्डारण में प्रयोग आने वाले बर्तनों, कुठले, कोठियों तथा बोरियों इत्यादि के साथ कोनों में या बोरियों की सिलाई के अंदर चिपके या छुपे रहते हैं।
  • अंधेरे वाले स्थानों जैसे चक्की, सीढिय़ों इत्यादि के नीचे छुपे रहते हैं। नया अनाज आने पर यह कीड़े बाहर निकल आते हैं।
  • अनाज मण्डियों में हर प्रकार का अनाज सारा साल आता रहता है तथा वहां से बोरियों व अन्य कपड़ों तथा वाहनों पर बैठ कर कीड़े घरों में डेरा डाल लेते हैं।
  • अनाज के लेनदेन व अनाज को पिसाई करते समय भी चक्कियों से यह कीड़े प्रवेश पा लेते हंै।

भण्डारण में कीड़ों की रोकथाम

  • गोदाम/बिन/बुखारी/कोठी/कुठला का प्रधूमन एल्युमिनियम फास्फाइड/फास्फयुम/ क्विकफॉस/सैलफास/फॉस्टोक्सीन) की एक गोली (3 ग्राम) को एक टन अनाज में या 7-10 गोलियां 1000 घन फुट (28 घन मीटर) जगह के लिए प्रयोग करें तथा इसके बाद भण्डारण को अच्छी तरह इस प्रकार बंद करें ताकि हवा अंदर से बाहर व बाहर से अंदर ना जा सकें। भण्डारण को इस तरह एक सप्ताह के लिए बंद रखें।
  • अनाज के खुले ढेर व बोरियों का प्रधूमन अलग भण्डार न होने की अवस्था में अनाज को फर्श पर ढेर लगाकर या बोरियों में भरे हुए अनाज को तिरपाल या पोलीथीन से ढक लें। चार गोली (12 ग्राम) प्रति टन के हिसाब से डालकर तिरपाल व पॉलीथिन के किनारों पर मिट्टी डालकर जमीन से चिपकाएं तथा तीन दिन बाद इसे हटा दें।

सावधानी

  • कीटनाशकों का प्रयोग निर्धारित मात्रा में ही करें तथा वह भी विशेषज्ञ की देख रेख में।
  • प्रधूमन के समय बीड़ी, खाना व पीने से बचें।
  • दवा का प्रयोग करते समय दस्तानों का प्रयोग करें।
  • आकस्मिक दुर्घटना होने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें
  • बी.एच.सी. व डी.डी.टी. कीटनाशक का कभी भी बीज में ना मिलायें।
  • बीज भण्डारण में ई.डी.टी.दवा का प्रयोग ना करें।

अनाज को निकालने के बाद निम्नलिखित क्रमानुसार ही घर में सुरक्षित रखना/ भण्डारण करें

  • भण्डारण करते समय अनाज में नमी की मात्रा 10 प्रतिशत से कम हो। दांत के नीचे दाने को काटने से कट की आवाज आती है तो अनाज भंडारण के लिए उपयुक्त है।
  • घर में भी नमी, धूल, चूहे एवं कीड़े-मकोड़ों से बचाने के लिए अनाज को कभी भी खुले में ना रखें।
  • जिस कमरे/बुखारी/गोदाम में अनाज रखना हो उसकी दीवारों, फर्श, छत अच्छी तरह से साफ करें ताकि कहीं भी उनके अण्ड़े व बच्चे न छुपे रह जाएं।
  • भंडार में टूट-फूट, दरारों व बालों को अच्छी तरह से सीमेंट या मिट्टी से बंद कर दें तथा पक्के मकानों में सफेदी अवश्य करें।
  • इन स्थानों को कीटाणु रहित करने के लिए 0.5 प्रतिशत मैलाथियान (एक हिस्सा मैलाथियान को 100 हिस्से पानी में) दवाई का छिड़काव करें।
  • जहां तक संभव हो अनाज को नई बोरियों में ही भरें। यदि पुरानी बोरियों का ही प्रयोग करना हो तो उन्हें या तो गर्म पानी में उबालकर सुखा ले नहीं तो बोरियों को कीट रहित करने के लिए उनको 0.1 प्रतिशत मैलाथियान (सायधियान) 50 ईसी (एक भाग दवाई व 500 भाग पानी) या 0.01 प्रतिशत साइपरमेथ्रिन 25 ई.सी. (एक भाग दवाई व 2500 भाग पानी) या 0.01 प्रतिशत फेनवलरेट 20 ईसी (एक भाग दवाई व 2000 भाग पानी) के घोल में 10-15 मिनट तक भिगोयें एवं बोरियों को छाया में सुखा लें। इसके बाद अनाज भरें।
  • अगर अनाज बोरियों में ही सुरक्षित रखना हो तो बोरियों को सीधे जमीन व दीवारों से उठाकर रखें। इन्हें लकड़ी के तख्तों व बांस की चटाई पर रखें जोकि फर्श व दीवार से आधा मीटर ऊंचा/दूर हो।
  • पुराने अनाज में नया अनाज कदापि न मिलायें। ऐसा करने से कीड़े तेजी से बढ़ते हैं।
  • बीज के लिए अनाज रखना हो तो 250 ग्राम मैलाथियान 5 प्रतिशत धूडा प्रति क्विंटल बीज के हिसाब से मिला कर रखें।
  • जहां तक संम्भव हो अनाज का भंडारण धातु की बनी टंकियों (पूसा बिन), ड्रमों व पक्के भण्डारणों में ही करें।
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × three =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।